Tag: आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी

काव्य लक्षण kavya lakshan

दोस्तो आज की पोस्ट में हम काव्यशास्त्र के महत्वपूर्ण विषयवस्तु काव्य लक्षण को अच्छे से पढ़ेंगे  काव्य के लक्षण   संस्कृत आचार्यों द्वारा निर्दिष्ट काव्य लक्षण भामह (छठी शताब्दी) भामह ने अपने ग्रन्थ ’काव्यालंकार’ में काव्य की परिभाषा देते हुए लिखा है ’’शब्दार्थों सहितौ काव्यम्।’’ अर्थात् शब्द और अर्थ के ’सहित भाव’ को काव्य कहते

महावीर प्रसाद द्विवेदी

महावीर प्रसाद द्विवेदी (Mahavir Prasad Dwivedi)   दोस्तो आज की इस पोस्ट मे हम  महावीर प्रसाद द्विवेदी  जी के बारे मे विस्तार से जानेंगे  इसलिए (Therefore) आप इस पोस्ट को अच्छे से पढ़िएगा ⇒जन्मकाल – 1864 ई. ⇒ जन्मस्थान – ग्राम – दौलतपुर, जिला – रायबरेली (उ.प्र.) ⇒ मृत्युकाल – 21 दिसम्बर, 1938 ई. (रायबरेली में) ⇒ प्रमुख रचनाएँ –
error: कॉपी करना मना है