दोस्तो आज की पोस्ट में हम काव्यशास्त्र के महत्वपूर्ण विषयवस्तु काव्य लक्षण को अच्छे से पढ़ेंगे  काव्य के लक्षण   संस्कृत आचार्यों द्वारा निर्दिष्ट काव्य लक्षण भामह (छठी शताब्दी) भामह ने अपने ग्रन्थ ’काव्यालंकार’ में काव्य की परिभाषा देते हुए लिखा है ’’शब्दार्थों सहितौ काव्यम्।’’ अर्थात् शब्द और अर्थ के ’सहित भाव’ को काव्य कहते