Tag: मलिक मुहम्मद जायसी

नागमती वियोग खण्ड || पद्मावत || मलिक मुहम्मद जायसी || hindi sahitya

दोस्तो आज की पोस्ट में नागमती वियोग खण्ड की महत्वपूर्ण व्याख्या दी गयी है इसमे वही टॉपिक दिये गए है जो परीक्षा की हिसाब से उपयोगी है  नागमती वियोग खण्ड महत्त्वपूर्ण व्याख्या और तथ्य नागमती का विरह वर्णन जायसी के विरहाकुल हृदय की गहन अनुभूति का सर्वाधिक मार्मिक-चित्रण नागमती के विरह-वर्णन में प्राप्त होता है।

मलिक मुहम्मद जायसी

 मलिक मुहम्मद जायसी जीवन परिचय  मलिक मुहम्मद जायसी जायसी  कृत ’पद्मावत’ में कुल 57 खण्ड है और इनका प्रिय अलंकार ’उत्प्रेक्षा ’ है। मलिक मुहम्मद जायसी ने अपने पूर्व लिखे गये चार प्रेमाख्यानकों का उल्लेख किया है – 1 मधुमालती, 2 मृगावती 3 मुग्धावती और 4 प्रेमावती। जायसी  अमेठी के निकट जायस में रहते थे।
error: कॉपी करना मना है