शब्द शुद्धि || shabd shuddhi || hindi vyakaran

आज की पोस्ट में हम हिंदी व्याकरण  के अंतर्गत शब्द शुद्धि(shabd shuddhi) के नियम पढेंगे ,जो अलग अलग नियमों के अनुसार होंगे ,आप अच्छे से इन नियमों को तैयार करें |

हिंदी व्याकरण के महत्वपूर्ण टॉपिक : 

स्वर व्यंजन , शब्द भेद,  उपसर्ग  ,कारक , क्रिया, वाच्य , समास ,मुहावरे , विराम चिन्ह |

शब्द शुद्धि(shabd shuddhi)

भाषा विचारों की अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है और शब्द भाषा की सबसे छोटी सार्थक इकाई है। भाषा के माध्यम से ही मानव मौखिक एवं लिखित रूपों में अपने विचारों को अभिव्यक्त करता है। इस वैचारिक अभिव्यक्ति के लिए शब्दों का शुद्ध प्रयोग आवश्यक है। अन्यथा अर्थ का अनर्थ होने में भी देर नहीं लगती। कई बार क्षेत्रीयता, उच्चारण भेद और व्याकरणिक ज्ञान के अभाव के कारण वर्तनी संबंधी अशुद्धियाँ हो जाती हैं।

वर्तनी संबंधी अशुद्धियों के कई कारण हो सकते हैं जिसमें से कुछ प्रमुख निम्नलिखित है –

1. मात्रा प्रयोग –

हिन्दी के कई शब्द ऐसे हैं जिनको लिखते समय मात्रा के प्रयोग विषयक संशय उत्पन्न हो जाता है। ऐसे शब्दों का ठीक से उच्चारण करने पर उचित मात्रा प्रयोग किया जाना संभव होता है।

जैसे –

अशुद्धशुद्ध
अतिथी                        अतिथि
इंदोर                           इंदौर
उर्जा                            ऊर्जा
ऊषा                            उषा
करूणा                          करुणा
क्योंकी                          क्योंकि
गितांजली                       गीताजंलि
तियालीस                       तैंतालिस
त्रिपुरारी                         त्रिपुरारि
दवाईयाँ                         दवाइयाँ
दीयासलाइ                      दियासलाई
निरिक्षण                        निरीक्षण
नुपुर                             नूपुर
प्रतीलीपि                        प्रतिलिपि
आहुती                           आहूति
ईकाई                             इकाई
उहापोह                           ऊहापोह
एरावत                            ऐरावत
केकयी                             कैकेयी
क्षिती                              क्षिति
गोतम                             गौतम
तिथी                               तिथि
तिलांजली                          तिलांजलि
त्यौंहार                             त्योहार
दिवारात्रि                           दिवारात्र
निरव                               नीरव
नीती                                निति
प्रतिनीधी                           प्रतिनिधि
पत्नि                               पत्नी
पङौसी                              पङोसी
परिक्षित                            परीक्षित
पुज्य                                पूज्य
पुरूस्कार                            पुरस्कार
बिमार                               बीमार
मिट्टि                                मिट्टी
मुल्य                                मूल्य
मूमर्ष                                मुमूर्ष
युयूत्सा                              युयुत्सा
रुप                                   रूप
रूपया                                रुपया
श्रीमति                               श्रीमती
परिक्षा                                परीक्षा
पितांबर                               पीताबंर
पूज्यनीय                             पूजनीय
बधाईयाँ                               बधाइयाँ
मारूति                                मारुति
मिलित                                मीलित
मूर्ती                                   मूर्ति
मेथलीशरण                           मैथिलीशरण
रचियता                               रचयिता
रात्री                                    रात्रि
शारिरीक                              शारीरिक
हरितिमा                              हरीतिमा

2. आगम –

शब्दों के प्रयोग में अज्ञानवश या भूलवश जब अनावश्यक वर्णों का प्रयोग किया जाए तो उसे आगम कहते हैं। आगम स्वर व व्यंजन दोनों का हो सकता है। अतिरिक्त रूप से प्रयुक्त इन वर्णों को हटाकर शब्दों का शुद्ध प्रयोग किया जा सकता है।

स्वर का आगम –

जैसे –

अशुद्धशुद्ध
अत्याधिक                         अत्यधिक
अहोरात्रि                           अहोरात्र
पहिला                              पहला
प्रदर्शिनी                            प्रदर्शनी
द्वारिका                            द्वारका
अहिल्या                             अहल्या
आधीन                              अधीन
तदानुकूल                           तदनुकूल
वापिस                               वापस

व्यंजन का आगम –

जैसे –

अशुद्ध शुद्ध
अंतर्ध्यान                             अंतर्धान
चिक्कीर्षा                             चिकीर्षा
मानवीयकरण                        मानवीकरण
सदृश्य                                सदृश
सौजन्यता                            सौजन्य
कृत्यकृत्य                            कृतकृत्य
षष्ठम्                                षष्ठ
समुन्द्र                               समुद्र

3. लोप –

शब्दों के प्रयोग में जब किसी आवश्यक वर्ण (स्वर या व्यंजन) का प्रयोग होने से रह जाए तो वह लोप कहलाता है। इस आधार पर भी शब्दों के सही प्रयोग करने हेतु आवश्यक स्वर या व्यंजन जोङकर त्रुटि रहित प्रयोग किया जा सकता है।

स्वर का लोप –

जैसे –

अशुद्धशुद्ध
अगामी                             आगामी
उज्यनी                             उज्जयिनी
जमाता                             जामाता
मोक्षदायनी                         मोक्षदायिनी
स्वस्थ्य                             स्वास्थ्य
आजीवका                           आजीविका
कालंदि                              कालिंदी
वयाकरण                           वैयाकरण

व्यंजन का लोप –

जैसे –

अशुद्धशुद्ध
अनुछेद                             अनुच्छेद
गणमान्य                           गण्यमान्य
जोत्सना                             ज्योत्स्ना
प्रतिछाया                            प्रतिच्छाया
मत्सेंद्र                               मत्स्येंद्र
मिष्ठान                              मिष्ठान्न
व्यंग                                  व्यंग्य
स्वालंबन                             स्वावलंबन
उपलक्ष                               उपलक्ष्य
छत्रछाया                             छत्रच्छाया
धातव्य                               ध्यातव्य
प्रतिद्वंद                             प्रतिद्वंद्व
महात्म                               माहात्म्य
याज्ञवल्क                            याज्ञवल्क्य
सामर्थ                                सामर्थ्य

4. वर्ण व्यतिक्रम (क्रम भंग) –

शब्दों में प्रयुक्त वर्णों को उनके क्रम से प्रयुक्त न कर शब्द में उसके नियत स्थान की अपेक्षा किसी अन्य क्रम पर प्रयुक्त् करना वर्ण व्यतिक्रम कहलाता है।

जैसे –

अशुद्ध शुद्ध
अथिति                             अतिथि
आवाहन                            आह्वान
चिन्ह                               चिह्न
पूर्वान्ह                              पूर्वाह्न
ब्रम्हा                                ब्रह्म
विव्हल                              विह्वल
अपरान्ह                            अपराह्न
आल्हाद                             आह्लाद
जिव्हा                               जिह्वा
प्रल्हाद                              प्रह्लाद
मध्यान्ह                            मध्याह्न

5. वर्ण परिवर्तन –

कई बार वर्ण प्रयुक्त करते समय असावधानीवश किसी वर्ण विशेष के स्थान पर किसी दूसरे वर्ण का प्रयोग हो जाता है। यह प्रयोग वर्तनी की अशुद्धि को दर्शाता है। अतः इस प्रकार के प्रयोग में सावधानी रखनी चाहिए।

जैसे –

अशुद्धशुद्ध
अधिशाषी                           अधिशासी
आंसिक                             आंशिक
कनिष्ट                              कनिष्ठ
छीद्रान्वेशी                           छिद्रान्वेषी
निशंग                                निषंग (तरकश)
पुरुस्कार                              पुरस्कार
यथेष्ट                                 यथेष्ट
वरिष्ट                                 वरिष्ठ
श्राप                                    शाप
संगठन                                 संगठन
संतुष्ठ                                  संतुष्ट
खंबा                                    खंभा
जुखाम                                  जुकाम
नृसंश                                    नृशंस
प्रसासन                                  प्रशासन
रामायन                                  रामायण
विंधाचल                                  विंध्याचल
सीधा-साधा                               सीधा-सादा
संघठन                                    संघटन
सुस्रुषा                                     सुश्रुषा

6. संयुक्ताक्षरों व व्यंजन द्वित्व का अशुद्ध प्रयोग –

दो व्यंजनों के बीच स्वर का अभाव संयुक्ताक्षर बनाता है वहीं दो समान व्यंजनों में से कोई एक जब स्वर रहित हो व तुरंत एक-दूसरे के बाद आए तो ऐसा प्रयोग द्वित्व कहलाता है। शुद्ध लेखन के लिए इन संयुक्त एवं द्वित्व वर्णों के प्रयोग में भी सावधानी रखनी चाहिए।

जैसे –

अशुद्ध शुद्ध
अद्वितिय                           अद्वितीय
उतीर्ण                                उत्तीर्ण
उल्लेखित                            उल्लिखित
न्यौछावर                             न्योछावर
बुद्धवार                                बुधवार
रक्खा                                 रखा
वृद्वि                                  वृद्धि
संक्षिप्तिकरण                        संक्षिप्तीकरण
उतम                                  उत्तम
उलंघन                                उल्लंघन
निमित                                निमित्त
प्रज्जवलित                           प्रज्वलित
योधा                                  योद्धा
विध्याचल                            विद्यालय
शुद्धिकरण                             शुद्धीकरण

7. पंचम वर्ण/अनुस्वार/अनुनासिकता (चंद बिंदु) का प्रयोग –

कई बार शब्दों में अनुस्वार या अनुनासिक चिह्न के प्रयोग की आवश्यकता होती है।
इनमें से अनुस्वार के स्थान पर अनुनासिक या अनुनासिक के स्थान पर अनुस्वार का प्रयोग त्रुटिपूर्ण होता है। अतः इनके प्रयोग में विशेष सावधानी की जरूरत होती है।

जैसे –

अशुद्ध शुद्ध
अँकुर                                  अंकुर
आंसू                                   आँसू
कांच                                    काँच
गान्धी                                  गाँधी
चांद                                     चाँद
झांसी                                    झाँसी
अँधा                                     अंधा
ऊंचा                                      ऊँचा
कुआ                                      कुआँ
चन्चल                                    चंचल
जगंनाथ                                   जगन्नाथ
झूँठ                                        झूठ
थूंक                                        थूक
दिंगनाग                                   दिङ्नाग
वांगमय                                    वाङ्मय
षन्मुख                                     षण्मुख
सन्लाप                                     संलाप
सम्हार                                     संहार
हंसना                                      हँसना
हंसिया                                     हँसिया
दांत                                        दाँत
पाचवां                                     पाँचवाँ
षणमास                                   षण्मास
सन्लग्न                                   संलग्न
सन्शय                                     संशय
हन्स                                        हंस
हंसमुख                                     हँसमुख

8. ’रेफ’ व ’र’ के अशुद्ध प्रयोग –

’र’ तथा रेफ के असावधानीपूर्वक प्रयोग से कई बार शब्दों में वर्तनी दोष आ जाता है। अतः शुद्ध वर्तनी प्रयोग का ध्यान रखते हुए इनके प्रयोग में सावधानी रखकर हम त्रुटिपूर्ण प्रयोग से बच सकते हैं।

जैसे –

अशुद्ध शुद्ध
अथार्त                                अर्थात्
अनुगृह                               अनुग्रह
आर्शिवाद                             आशीर्वाद
चर्मोत्कर्ष                             चरमोत्कर्ष
दुगर्ति                                 दुर्गति
सर्मथ                                 समर्थ
पुर्नजन्म                              पुनर्जन्म
ब्रहस्पति                              बृहस्पति
मुध्दनर्य                               मूर्द्धन्य
विगृह                                  विग्रह
शृ्रंगार                                 शृंगार
सृष्टा                                   स्रष्टा
स्त्रोत                                   स्रोत
अहरनिस                               अहर्निश
अनुग्रहित                              अनुगृहीत
क्रशांगी                                 कृशांगी
तीथंर्कर                                 तीर्थंकर
दशर्न                                    दर्शन
नमर्दा                                   नर्मदा
प्रर्यपण                                  प्रत्यर्पण
मरयादा                                 मर्यादा
मुर्हुत                                     मुहूर्त
व्रद्धीकरण                                वृद्धीकरण
संग्रहित                                  संगृहीत
स्त्रोत्र                                     स्तोत्र
स्रष्टि                                     सृष्टि

9. संधि –

संधि के नियमों की जानकारी के अभाव में भी शब्दों में त्रुटि होने की पूरी संभावना रहती है। अतः वे शब्द जो संधि शब्द बन रहे हों उनके प्रयोग में संधि के नियमों के सावधानीपूर्वक प्रयोग से हम शब्दों का शुद्ध प्रयोग कर सकते हैं।

जैसे –

अशुद्धशुद्ध
अत्याधिक                          अत्यधिक
अंताक्षरी                            अंत्याक्षरी
अभ्यांतर                            अभ्यंतर
अभ्यारण्य                           अभयारण्य
अन्विती                             अन्विति
उपरोक्त                             उपर्युक्त
कविंद्र                                कवींद्र
उज्वल                               उज्जवल
पुनरावलोकन                        पुनरवलोकन
पुनरोत्थान                           पुनरुत्थान
तत्त्वाधान                           तत्त्वावधान
भाष्कर                               भास्कर
रविंद्र                                 रवींद्र
षट्यंत्र                                षड्यंत्र
सम्यकज्ञान                          सम्यग्ज्ञान
उचछवास                             उच्छ्वास
गत्यावरोध                            गत्यवरोध
पुनरोक्ति                              पुनरुक्ति
दुरावस्था                              दुरवस्था
भगवतगीता                           भगवद्गीता
मेघाछन्न                              मेघाच्छन्न
लघुत्तर                                लघूत्तर
संसदसदस्य                            संसत्सदस्य
सरवर                                  सरोवर

10. समास –

शब्दों के शुद्ध प्रयोग हेतु समास के नियमों का भी ज्ञान होना आवश्यक है। भाषा व्यवहार में आने वाले सामासिक पदों के प्रयोग में समास के नियमों का ध्यान रख कर हम त्रुटियों से बच सकते हैं।

जैसे –

अशुद्धशुद्ध
अष्टवक्र                             अष्टावक्र
एकलोता                             इकलौता
निरपराधी                            निरपराध
सशंकित                              सशंक
यौवनावस्था                          युवावस्था
अहोरात्रि                              अहोरात्र
दिवारात्रि                              दिवारात्र
सकुशलतापूर्वक                       सकुशल/कुशलतापूर्वक
योगीवर                                योगिवर

11. उपसर्ग –

उपसर्ग के प्रयोग से बने शब्दों में उचित उपसर्ग की पहचान कर लेखन या वाचन करने से शब्दों का शुद्ध प्रयोग संभव हो सकता है।

जैसे –

अशुद्धशुद्ध
अनाधिकार                         अनधिकार
निरावलंब                           निरवलंब
निराभिमान                         निरभिमान
निसंकोच                            निस्संकोच
बईमान                              बेईमान
सशंकित                            सशंक/शंकित
तदोपरांत                           तदुपरांत
निशुल्क                            निश्शुल्क/निःशुल्क
निरालंकृत                          निरलंकृत
बेफिजूल                            फिजूल/फ़जूल
सदृश्य                              सादृश्य/सदृश
सानंदपूर्वक                         सानंद/आनंदपूर्वक

12. प्रत्यय –

प्रत्यय के नियमों की जानकारी के अभाव के कारण भी शब्दों में त्रुटि होने की पूरी संभावना रहती है। अतः प्रत्यय के सही व सावधानीपूर्वक प्रयोग से लेखन में होने वाली अशुद्धि से बच सकते हैं।

जैसे –

अशुद्ध शुद्ध
अनुपातिक                            आनुपातिक
उपनिवेशिक                           औपनिवेशिक
उद्योगीकरण                          औद्योगिकीकरण
एतिहासीक                             ऐतिहासिक
ऐशवर्य                                  ऐश्वर्य
ओदार्य                                   औदार्य
कार्पण्यता                               कृपणता/कार्पण्य
क्रोधित                                  क्रुद्ध
ग्रसित                                   ग्रस्त
तत्कालिक                               तात्कालिक
दैन्यता                                   दैन्य
प्रफुल्लित                                प्रफुल्ल
प्रामाणिकरण                            प्रमाणीकरण
प्रोद्योगिकी                              प्रौद्योगिकी
वाल्मिकी                                वाल्मीकि
ओद्योगिक                              औद्योगिक
औदार्यता                                 उदारता
कोंतेय                                    कौंतेय
गोरवता                                   गुरुता
चातुर्यता                                  चातुर्य/चतुरता
दारिद्रयता                                दरिद्रता/दारिद्रय
धैर्यता                                    धीरता/धैर्य
प्रमाणिक                                 प्रामाणिक
प्रागेतिहासीक                             प्रागैतिहासिक
भाग्यमान                                 भाग्यवान
व्यवहारीक                                व्यावहारिक

13. लिंग –

हिन्दी में स्त्री लिंग व पुल्ंिलग शब्दों के प्रयोग के विशिष्ट नियम हैं जो हम लिंग वाले अध्याय में विस्तृत रूप से पढ़ चुके हैं। लिंग परिवर्तन व पहचान के नियमों का सही प्रयोग हम अशुद्धियों से बच सकते है।

जैसे –

अशुद्धशुद्ध
अनाथिनी                           अनाथ
गुणवानी                             गुणवती
चूही                                  चुहिया
ठाकुरनी                              ठकुराइन
दुल्हा                                  दुल्हिन
पिशाचिनी                            पिशाची
विद्वानी                              विदुषी
सुनारी                                सुनारिन
कवित्री                                कवयित्री
चमारी                                चमारिन
जेठी                                  जेठानी
दाती                                  दात्री
नेती                                   नेत्री
भुजंगी                                भुजंगिनी
श्रीमति                               श्रीमती

14. वचन –

हिन्दी में वचन दो प्रकार के होते हैं- एकवचन और बहुवचन। इनके प्रयोग व पहचान की विस्तृत चर्चा वचन वाले अध्याय में हो चुकी है। इनका ठीक तरीके से पालन हमें शुद्ध लेखन में मदद करता है।

जैसे –

अशुद्धशुद्ध
अनेकों                              अनेक
इकाईयाँ                            इकाइयाँ
हिन्दुवों                             हिन्दुओं
विद्यार्थीगण                       विद्यार्थिगण
आसुएं                               आँसू
गोवें                                 गौएँ
दवाईयाँ                             दवाइयाँ

shabd-shuddhi

विराम चिन्ह क्या है ?

 

परीक्षा में आने वाले ही शब्द युग्म ही पढ़ें 

 

साहित्य के शानदार वीडियो यहाँ देखें 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *