काल || Kaal || काल व उसके भेद || hindi vyakaran

दोस्तों आज की पोस्ट में hindi vyakaran का महत्वपूर्ण टॉपिक काल पर चर्चा करेंगे ,जिसके एक या दो प्रश्न एग्जाम में जरुर पूछे जाते है 

काल

⇒ काल की  परिभाषा – क्रिया के उस रूपांतर को ’काल’ कहते हैं, जिससे उसके कार्य-व्यापार का समय और

उसकी पूर्ण अथवा अपूर्ण अवस्था का बोध हो।

 

काल के भेद (Kaal ke bhed)

 

काल के तीन भेद हैं –

(1) वर्तमानकाल

(2) भूतकाल

(3) भविष्यतकाल

1-वर्तमानकाल (Vartamaan Kaal)

परिभाषा – क्रियाओं के व्यापार की निरंतरता को ’वर्तमानकाल’ कहते हैं।

इसमें क्रिया का आरंभ हो चुका होता है।

जैसे-

  • वह खाता है।

यहाँ ’खाने’ का कार्य-व्यापार चल रहा है, समाप्त नहीं हुआ है।

  • वह पढ़ रहा है।
  • पक्षी आकाश में उङते है।
  • वह अभी गया है।
  • उसने खाना खा लिया है।

[…]

वर्तमानकाल के पाँच भेद हैं –

(1) सामान्य वर्तमान

(2) तात्कालिक वर्तमान

(3) पूर्ण वर्तमान

(4) संदिग्ध वर्तमान

(5) संभाव्य वर्तमान।

1. सामान्य वर्तमान – क्रिया का वह रूप जिससे क्रिया का वर्तमानकाल में होना पाया जाए, ’सामान्य वर्तमान’

कहलाता है।

जैसे –

  • वह आता है |
  • वह देखता है।
  • पक्षी आकाश में उङते है।
  • वह अभी गया है।
  • उसने खाना खा लिया है।

2. तात्कालिक वर्तमान – इससे यह पता चलता है कि क्रिया वर्तमानकाल में हो रही है।

जैसे –

  • मैं पढ़ रहा हूँ |
  • वह जा रहा है।
  • हम घूमने जा रहे हैं।
  • विद्या कपङे धो रही है।
  • टंकी से पानी बह रहा है।
  • बच्चे खिलौनों से खेल रहे हैं।
  • बाघ हरिण का पीछा कर रहा है।
  • कुछ लोग पंडाल में आ रहे है, कुछ बाहर जा रहे है।

3. पूर्ण वर्तमान – इससे वर्तमानकाल में कार्य की पूर्ण सिद्धि का बोध होता है।

जैसे –

  • वह आया है |
  • लङके ने पुस्तक पढ़ी है।
  • वह चला गया है।
  • उसने भोजन कर लिया है।
  • मैं तो सुबह ही नहा चुका हूँ।
  • घङा पानी से भर गया है।

4. संदिग्ध वर्तमान – जिससे क्रिया के होने में संदेह प्रकट हो, पर उसकी वर्तमानता में संदेह न हो।

जैसे –

  • राम खाता होगा |
  • वह पढ़ता होगा।
  • वह सो रहा होगा।
  • उल्लास खेलता होगा।
  • छात्र कहानियाँ सुन रहे होंगे।
  • पहरेदार जाग रहा होगा।

5. संभाव्य वर्तमान – इससे वर्तमानकाल में काम के पूरा होने की संभावना रहती है।

जैसे –

  • वह आया हो |
  • वह लौटा हो ।
  • सुधाकर आता है तो काम हो जाना चाहिए।
  • वह स्वस्थ होता लगता है।
  • वह पढ़े तो पढ़ने देना।
  • अब तो देश आगे बढ़ना ही चाहिए।

2-भूतकाल (Bhootkaal)

परिभाषा – जिस क्रिया से कार्य की समाप्ति का बोध हो, उसे भूतकाल की क्रिया कहते हैं।

जैसे –

  • लङका आया था |
  • वह खा चुका था |
  • मैंने गाया।
  • दो दिन पहले जोर की वर्षा हुई थी।
  • नेता जी का प्रचार-रथ बङी भीङ के साथ जा रहा था।

भूतकाल के छह भेद है –

(1) सामान्य भूत

(2) आसन्न भूत

(3) पूर्ण भूत

(4) अपूर्ण भूत

(5) संदिग्ध भूत

(6) हेतुहेतुमद्भुत।

1. सामान्य भूत – जिससे भूतकाल की क्रिया के विशेष समय का ज्ञान न हो।

जैसे –

  • मोहन आया |
  • सीता गई।
  • मोहन आया, सीता गई।
  • विनय घर गया।
  • मैंने खाना खाया।
  • वे कल यहाँ आए थे।
  • उसने पिछले वर्ष परीक्षा दी।

2. आसन्न भूत – इससे क्रिया की समाप्ति निकट भूत में या तत्काल ही सूचित होती है।

जैसे-

  • मैंने आम खाया है|
  • मैं चला हूँ।
  • वे अभी आए हैं।
  • बच्चा सो गया है।
  • प्रभा बस अभी गयी है।
  • वृक्ष गिर गया है।
  • वह पिछले सप्ताह गाँव आया है।
  • विद्यालय घण्टे भर पहले बन्द हुआ है।
  • वे घर आ गए है।
  • अनुराधा अभी घर गई है।
  • बहुत गर्मी हो गई है।
  • मैंने विचार किया है।

3. पूर्ण भूत – क्रिया के उस रूप को पूर्ण भूत कहते हैं, जिससे क्रिया की समाप्ति के समय का स्पष्ट बोध होता है

कि क्रिया को समाप्त हुए काफी समय बीता है।

जैसे –

  • उसने मुरारी को मारा था |
  • वह आया था।
  • व्यास जी ने महाभाारत रचा था।
  • वर्षा न होने से खेती सूख गई थी।
  • पुलिस के आने से पहले ही लुटेरे भाग चुके थे।
  • अब पछताए होत का, चिङियाँ चुग गई खेत।
  • मैंने दो वर्ष पहले बी. ए. किया था।
  • शिवशंकर ने 2009 में यह बच्चा गोद लिया।
  • इस मकान में आप कब आए थे।
  • अपराधी तो दुर्घटना में मर चुका था।
  • ओलों से फसल नष्ट हो चुकी थी।
  • सभी सहेलियाँ घरों को जा चुकी थी।

4. अपूर्ण भूत – इससे यह ज्ञात होता है कि क्रिया भूतकाल में हो रहा थी, किंतु उसकी समाप्ति का पता नहीं चलता।

जैसे-

  • सुरेश गीत गा रहा था |
  • गीता सो रही थी।
  • वह सोता था।
  • चुनावी रंग निरन्तर बढ़ रहा था।
  • रोम जलता था नीरो बंशी बजाता था।
  • वे अँधेरे में ही आगे बढ़ रहे थे।
  • अँग्रेज झाँसी को हङपने का षड्यंत्र रच रहे थे।
  • सीमा पर हमारे जवान दिन-रात पहरा देते थे।
  • हम बचपन में इस पार्क में खेला करते थे।
  • बहुत पहले पृथ्वी पर डायनासोर रहा करते थे।
  • वह प्रायः शुक्रवार को आता था।
  • चिङियाँ इन्हीं झाङियों में चहकती थी।
  • वह हर महीने उधार चुकाती थी।
  • झरना मंदगति से बह रहा था।
  • शत्रु घात लगाकर आगे बढ़ रहा था।
  • बेचारी गाय सङक पर दम तोङ रही थी।
  • डाकू धीरे-धीरे आगे बढ़ते आ रहे थे।
  • पुजारी रोज शाम को आरती किया करता था।
  • याद है, हम दोनों नदी किनारे घण्टों घूमा करते थे।

5. संदिग्ध भूत – इसमें यह संदेश बना रहता है कि भूतकाल में कार्य पूरा हुआ था या नहीं।

जैसे-

  • तुमने गाया होगा |
  • तू गाया होगा।
  • वह चला गया होगा।
  • किसान काम बंद करके घर जा चुके होंगे।
  • लगता है वह ठीक समय पर पहुँच गया होगा।
  • अवश्य ही मरने से पहले, उसने मुझे याद किया होगा।
  • शायद सभी छात्र, तब तक जा चुके होंगे।

6. हेतुहेतुमद्भूत – इससे यह पता चलता है कि क्रिया भूतकाल में होनेवाली थी, पर किसी कारण(reason) न हो सकी।

जैसे –

  • मैं आता |
  • तू जाता |
  • वह खाता।
  • मैं घर पर होता, तो वह अवश्य रुकती।
  • दिव्या प्रथम आई होती, तो उसे पुरस्कार मिलता।
  • बाढ़ आ गई होती, तो सारा गाँव डूब जाता।
  • यदि समय पर चिकित्सा मिल जाती है, तो अनेक घायलों की जानें बच जातीं।
  • आतंकवादी सफल हो गए होते, तो सैकङों निर्दोष लोगों मारे जाते।
  • सही निर्णय लिया गया होता, तो कश्मीर की समस्या उसी समय सुलझ गई होती।

3-भविष्यत काल (Bhavishit Kaal)

परिभाषा – भविष्य में होने वाली क्रिया को भविष्यत काल की क्रिया कहते हैं।

जैसे –

  • वह कल घर जाएगा।

भविष्यत काल के तीन भेद है –

(1) सामान्य भविष्य
(2) संभाव्य भविष्य
(3) हेतुहेतुमद् भविष्य।

1. सामान्य भविष्य – इससे यह प्रकट होता है कि क्रिया सामान्यतः भविष्य में होगी।

जैसे-

  • मैं पढूँगा |
  • वह जाएगा।
  • वह आएगा।
  • हम पढे़ंगे।
  • दालें और सस्ती होंगी।
  • उसका विवाह होगा।
  • भवेश पढ़ेगा।
  • बच्चे खेलेंगे।
  • मनीषा पढ़ेगी।
  • लङकियाँ नाचेंगी।
  • मैं लिखूँगा।
  • मैं लिखूँगी।

2. संभाव्य भविष्य – जिससे भविष्य में किसी कार्य के होने की संभावना हो |

जैसे –

  • संभव है |
  • रमेश कल आया।
  • लगता है वे आएँगे।
  • सम्भव है पीयूष वहाँ मिले।
  • हो सकता है भारत फिर विश्व गुरु हो जाए।
  • सम्भावना है कि फसल अच्छी होगी।
  • सम्भव है, वर्षा आए।
  • लगता है, मजदूर न मिले।
  • हो सकता है, हम तुम्हें स्टेशन पर मिलें।
  • लगता है, सभी कार्यकर्ता चैराहे पर एकत्र हों।
  • सम्भावना है, मैं उससे मिलने जाऊँ।
  • लगता है कि तुम सच बोलो।

3. हेतुहेतुमद् भविष्य – इसमें एक क्रिया का होना दूसरी क्रिया के होने पर निर्भर करता है।

जैसे –

  • वह आए तो मैं जाऊँ |
  • वह कमाए तो खाए।

ये भी अच्छे से जानें ⇓⇓

समास क्या होता है ?

 

परीक्षा में आने वाले मुहावरे 

 

सर्वनाम व उसके भेद 

 

महत्वपूर्ण विलोम शब्द देखें 

 

विराम चिन्ह क्या है ?

 

परीक्षा में आने वाले ही शब्द युग्म ही पढ़ें 

 

साहित्य के शानदार वीडियो यहाँ देखें 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *