समास

समास की परिभाषा (Samas Ki Paribhasha)

दोस्तो आज हम इस पोस्ट में समास को अच्छी तरह से उदाहरणों सहित अच्छे से समझेंगे 

’समास’ का अर्थ है – शब्दों को पास-पास बिठाना, जिससे कम शब्दों का प्रयोग करके अधिक अर्थ प्राप्त किया जा सके।

ऐसा करने के लिए पदों में प्रयुक्त परसर्ग चिह्न हटा लिये जाते हैं तथा विग्रह करते समय उन्हीं परसर्ग चिह्नों को पुनः लगा लिया जाता है।

जैसे-’पाठ के लिए शाला’ इस पद से परसर्ग चिह्न ’के लिए’ हटा लेने पर ’पाठशाला’ शेष बचता है। इसे समस्त पद कहते हैं।

विग्रह करते समय इस समस्त पद में पुनः परसर्ग चिह्न लगा देते हैं। संक्षिप्तता की दृष्टि से ’समास’ अत्यन्त उपयोगी है।

’’दो या दो से अधिक शब्दों के विभक्ति चिह्नों आदि का लोप करके शब्दों के मेल से बना हुआ पद ’समस्त पद’ कहलाता है।

’’विभक्ति विहीन दो या दो से अधिक शब्दों के सार्थक योग को समास कहते हैं।’’

समास युक्त पद को ’समस्त पद’ कहते हैं।

विग्रह करने पर समस्त पद के दो या दो से अधिक शब्द बन जाते हैं। इनमें विभक्ति-चिह्न लगाकर अर्थ ग्रहण किया जाता है। जैसे –

         समस्त पद        पूर्व पद        उत्तर पद           विग्रह

  • पाठशाला          पाठ               शाला               पाठ (पढ़ने) की शाला
  • पीताम्बर          पीत              अम्बर             पीत है अम्बर जिसका
  • दाल-रोटी          दाल              रोटी                 दाल और रोटी।
  • नवरत्न             नव               रत्न                नव (नौ) रत्नों का समाहार।

 

समास के भेद(samaas ke bhed)

समास के निम्नलिखित भेद हैं

  • अव्ययीभाव समास
  •  तत्पुरुष समास
  •  कर्मधारय समास
  •  द्विगु समास
  •  द्वन्द्व समास
  •  बहुब्रीहि समास

(1) अव्ययीभाव समास(avyayeebhaav samaas)

जिस समस्त पद का पहला पद अव्यय हो तो जिससे समस्त पद भी अव्यय बन जाए, उसे अव्ययीभाव समास कहते है।

जैसे –
         समस्त पद                   विग्रह

  • आजीवन                      जीवन-पर्यन्त
  • यथाशक्ति                    शक्ति के अनुसार
  • भरपेट                          पेट-भरकर
  • अनुरूप                         रूप के योग्य
  • यथाशीघ्र                       जितना शीघ्र हो सके
  • दिनभर                         सारे दिन
  • हाथोंहाथ                       हाथ ही हाथ में
  • यथाक्रम                       क्रम के अनुसार
  • निर्विवाद                      बिना विवाद के
  • अनजाने                      बिना जाने हुए
  • यथासमय                   जो समय निर्धारित है
  • निर्विकार                    बिना विकार के
  • प्रतिदिन                     दिन-दिन
  • प्रत्येक                       एक-एक
  • प्रतिवर्ष                      वर्ष-वर्ष
  • आमरण                     मरण तक
  • आजन्म                    जन्म पर्यन्त
  • आयुपर्यन्त                आयु के अन्त तक
  • यथाविधि                  विधि के अनुसार
  • समक्ष                       अक्षि (आँख) के सामने
  • बेचैन                        बिना चैन के
  • यथासम्भव                जितना सम्भव हो
  • प्रतिक्षण                    हर क्षण
  • निडर                        बिना डरे हुए
  • लाजवाब                    जिसका जबाव न हो
  • हरवर्ष                        प्रत्येक वर्ष
  • निर्जल                      बिना जल के

 

(2) तत्पुरुष समास(Tatpurush samas)

 

तत्पुरुष समास में द्वितीय पद प्रधान होता है। तत्पुरुष समास के उपभेद, पूर्वपद में लगे हुए कारक चिह्नों के नाम से किये जाते हैं।

जैसे-कर्म के कारक चिह्न ’को’ का लोप करने से बने समाज को कर्म तत्पुरुष कहा जाता है।
कर्म तत्पुरुष (को)

          समस्त पद                 विग्रह

  • स्वर्गप्राप्त                    स्वर्ग को प्राप्त
  • शरणागत                    शरण को आगत
  • मुँहतोङ                        मुँह को तोङने वाला
  • सर्वज्ञ                          सबको जानने वाला
  • मांसभक्षी                     मांस को खाने वाला
  • गृहागत                        गृह को आगत
  • चिङीमार                      चिङी को मारने वाला
  • गगनचुम्बी                   गगन को चूमने वाला
  • नरभक्षी                       नरों को खाने वाला
  • ग्रामगत                       ग्राम को गया हुआ

करण तत्पुरूष (से, के द्वारा का लोप)

          समस्तपद                        विग्रह

  • वाक्युद्ध                            वाक् से युद्ध
  • नीतियुक्त                        नीति से युक्त
  • अकालपीङित                    अकाल से पीङित
  • पददलित                          पद से दलित
  • रससिक्त                          रस से सिक्त
  • मदमत्त                            मद से मत्त हुआ
  • श्रमसाध्य                          श्रम से साध्य
  • ईश्वरप्रदत्त                        ईश्वर द्वारा प्रदत्त
  • नेत्रहीन                              नेत्रों से हीन।
  • आचारकुशल                       आचार से कुशल
  • शराहत                               शर से आहत
  • मदान्ध                               मद से अन्धा
  • जलावृत्त                            जल से आवृत्त
  • अश्रुपूर्ण                               अश्रु से पूर्ण
  • शोकाकुल                             शोक से आकुल
  • मनगढ़ंत                              मन से गढ़ा हुआ
  • धनरहित                              धन से रहित

सम्प्रदान तत्पुरुष (’के लिए’ का लोप)

         समस्त पद                          विग्रह

  • रसोईघर                              रसोई के लिए घर
  • राहखर्च                               राह के लिए खर्च
  • सभामंडप                            सभा के लिए मंडप
  • डाकगाङी                             डाक के लिए गाङी
  • गुरुदक्षिणा                           गुरु के लिए दक्षिणा
  • सभाभवन                            सभा के लिए भवन
  • स्नानघर                             स्नान के लिए घर
  • मार्गव्यय                             मार्ग के लिए व्यय
  • विद्यालय                            विद्या के लिए आलय
  • देशभक्ति                             देश के लिए भक्ति
  • यज्ञवेदी                               यज्ञ के लिए वेदी
  • देवालय                               देवता के लिए आलय
  • रणभूमि                               रण के लिए भूमि
  • मालगोदाम                          माल के लिए गोदाम
  • न्यायालय                           न्याय के लिए आलय
  • सत्याग्रह                             सत्य के लिए आग्रह

अपादान तत्पुरुष (’से’ अलग होने के अर्थ में का लोप)

         समस्त पद                           विग्रह

  • दूरागत                              दूर से आगत
  • रणविमुख                          रण से विमुख
  • भयभीत                            भय से भीत
  • आशातीत                          आशा से अतीत
  • ऋणमुक्त                          ऋण से मुक्त
  • धर्मविमुख                         धर्म से विमुख
  • पदच्युत                            पद से च्युत
  • दोषमुक्त                          दोष से मुक्त
  • जातिभ्रष्ट                         जाति से भ्रष्ट
  • पापमुक्त                         पाप से मुक्त
  • जलरिक्त                         जल से रिक्त
  • पथभ्रष्ट                           पथ से भ्रष्ट
  • देशनिकाला                      देश से निकाला
  • लोकोत्तर                        लोक से उत्तर
  • बन्धनमुक्त                    बन्धन से मुक्त

सम्बन्ध तत्पुरुष (’क, की, के’ का लोप)

         समस्त पद                    विग्रह

  • पराधीन                       पर (दूसरे) के अधीन
  • नगरसेठ                      नगर का सेठ
  • राष्ट्रपति                      राष्ट्र का पति
  • कन्यादान                    कन्या का दान
  • गोदान                        गो (गाय ) का दान
  • हिमालय                     हिम का आलय
  • भूदान                        भू का दान
  • सेनाध्यक्ष                   सेना का अध्यक्ष
  • रामचरित                   राम का चरित
  • स्वर्णपात्र                   स्वर्ण का पात्र
  • राजदरबार                 राजा का दरबार
  • देशवासी                   देश का वासी
  • राजमाता                  राजा की माता
  • उल्कापात                उल्का का पात
  • दीपशिखा                 दीप की शिखा
  • अन्नदान                 अन्न का दान
  • ऋषिकन्या               ऋषि की कन्या
  • सभापति                  सभा का पति
  • गंगाजल                  गंगा का जल
  • लोकनायक              लोक का नायक
  • स्नेहमग्न                स्नेह में मग्न

अधिकरण तत्पुरुष (’में, पे, पर’ का लोप)

          समस्त पद                     विग्रह

  • आपबीती                       आप पर बीती
  • विद्याप्रवीण                  विद्या में प्रवीण
  • पुरुषसिंह                       पुरुषों में सिंह
  • डिब्बाबन्द                     डिब्बा में बन्द
  • घुङसवार                        घोङे पर सवार
  • आत्मनिर्भर                    आत्म (स्वयं) पर निर्भर
  • गृहप्रवेश                        गृह में प्रवेश
  • कविराज                        कवियों में राजा
  • नरोत्तम                        नरों में उत्तम
  • फलासक्त                      फल में आसक्त
  • ध्यानमग्न                     ध्यान में मग्न
  • वनवास                          वन में वास

 

(3) कर्मधारय समास( Karmdharay samas )

इस समास में भी दूसरा पद (उत्तर पद) प्रधान होता है, किन्तु पहला पद (पूर्वपद) विशेषण तथा दूसरा पद विशेष्य (संज्ञा) होता है।

दूसरे शब्दों में, जिस समास के दोनों पदों में विशेषण और विशेष्य का सम्बन्ध रहता है, उसे कर्मधारय समास कहते हैं।

जैसे –

         समस्तपद                    विग्रह

  • श्वेताम्बर                   श्वेत है जो अम्बर
  • मधुहास                     मधु सम है जो हास
  • दुष्कर्म                      दूषित है जो कर्म
  • सत्पुरुष                    सत् है जो पुरुष
  • पुरुषरत्न                  पुरुष है जो रत्न के समान
  • चरणकमल               नीला है जो कमल के समान
  • नीलकमल                नीला है जो कमल
  • नीलगाय                   नीली है जो गाय
  • रक्तकमल                रक्त (लाल) है जो कमल
  • महापुरुष                  महान् है जो पुरुष
  • खाद्यान्न                 खाद्य है जो अन्न
  • लौहपुरुष                   लौह जैसा (शक्तिशाली) है जो पुरुष
  • सज्जन                    सत् है जो जन
  • पीताम्बर                  पीत है जो अम्बर
  • महात्मा                    महान् है जो आत्मा
  • चन्द्रमुख                  चन्द्रमा के समान है जो मुख
  • महर्षि                      महान् है जो ऋषि
  • नीलाकाश                 नीला है जो आकाश

 

(4) द्विगु समास (Dwigu samas)

जिस समास का एक पद संख्यावाचक विशेषण होता है तथा पूर्वपद प्रधान होता है, उसे द्विगु समास कहते हैं। यथा –

         समस्त पद                विग्रह

  • त्रिलोक                       तीन लोकों का समूह
  • चौराहा                       चार राहों का समूह
  • सप्तर्षि                      सात ऋषियों का समूह
  • पंचवटी                       पाँच वटों का समूह
  • त्रिफला                       तीन फलों का समूह
  • चौपाई                       चार पदों का समूह
  • अष्टाध्यायी               आठ अध्यायों का समूह
  • पक्षद्वय                   दो पक्षों का समूह
  • षडरस                      छह रसों का समूह
  • चौमासा                    चार मासों का समूह
  • नवरत्न                    नौ रत्नों का समूह
  • सतसई                     सात सौ पद्यों का समूह
  • चतुर्भुज                    चार भुजाओं का समूह
  • सप्ताह                     सात दिनों का समूह

 

(5) द्वन्द्व समास ( Dvandva Samas )

जिस समस्त पद में दोनों पद प्रधान हों तथा विग्रह करते समय एवं, तथा, और आदि लगे, उसे द्वन्द्व समास कहते है। समस्त पद के मध्य योजक चिह्न रहता है।

          समस्तपद                विग्रह

  • भाई-बहन               भाई और बहिन
  • धनी-निर्धन            धनी और निर्धन
  • रात-दिन                रात और दिन
  • पूर्व-पश्चिम            पूर्व और पश्चिम
  • नर-नारी                नर और नारी
  • जन्म-मरण            जन्म और मरण
  • अन्न-जल              अन्न और जल
  • राधा-कृष्ण             राधा और कृष्ण
  • पेङ-पौधे                 पेङ और पौधे
  • भला-बुरा                भला और बुरा
  • वेद-पुराण               वेद और पुराण
  • ऊँच-नीच                ऊँच और नीच
  • चल-अचल              चल और अचल
  • माता-पिता              माता और पिता
  • देश-विदेश               देश और विदेश
  • सुख-दुःख               सुख और दुःख
  • हार-जीत                हार और जीत
  • दाल-रोटी               दाल और रोटी
  • हानि-लाभ              हानि और लाभ
  • सीता-राम              सीता और राम
  • जल-थल               जल और थल
  • पाप-पुण्य              पाप और पुण्य
  • दूध-दही                 दूध और दही
  • राज-रंक                राजा और रंक
  • छोटा-बङा              छोटा और बङा

 

(6) बहुब्रीहि समास ( Bahubrihi Samas )
जिस समस्त पद में कोई पद प्रधान नहीं होता तथा जो अपने पदों से भिन्न किसी संज्ञा का विशेषण होता है, उसे बहुब्रीहि समास कहते हैं। जैसे –
          समस्तपद                विग्रह (संज्ञा का विशेषण)
  • पीताम्बर                पीत है अम्बर जिसका (कृष्ण)
  • दशानन                 दश हैं आनन जिसका (रावण)
  • चतुर्भुज                चार हैं भुजाएँ जिसके (विष्णु)
  • त्रिलोचन              तीन है लोचन जिसके (शिव)
  • शूलपाणि              शूल है पाणि में जिसके वह (शिव)
  • चतुरानन             चार आनन हैं जिसके वह (ब्रह्म)
  • लम्बोदर            लम्बा है उदर जिसका(गणेश)
  • वीणापाणि          वीणा है हाथ में जिसके (सरस्वती)
  • चन्द्रशेखर           चन्द्रमा है शिखर (शीश) पर जिसके (शिव)
समास के अन्य उदाहरण

         समस्त पद             विग्रह                     समास का नाम

  • मुक्तिप्राप्त       मुक्ति को प्राप्त             कर्म तत्पुरुष
  • वनगमन          वन को गमन                कर्म तत्पुरुष
  • सुखदायक         सुख को देने वाला          कर्म तत्पुरुष
  • बाणाहत            बाण से आहत               करण तत्पुरुष
  • चिन्ताग्रस्त       चिन्ता से ग्रस्त              करण तत्पुरुष
  • भोजनालय         भोजन के लिए आलय     सम्प्रदान तत्पुरुष
  • सेवामुक्त          सेवा से मुक्त                  अपादान तत्पुरुष
  • पाणिग्रहण        पाणि का ग्रहण                सम्बन्ध तत्पुरुष
  • शोकमग्न          शोक में मग्न                  अधिकरण तत्पुरुष
  • शुभागमन           शुभ है जो आगमन         कर्मधारय समास
  • कुदृष्टि               कुत्सित है जो दृष्टि         कर्मधारय समास
  • पूर्वापर                पूर्व और अपर                 द्वन्द्व समास
  • पशु-पक्षी              पशु और पक्षी                द्वन्द्व समास
  • पंचपात्र                 पाँच पात्रों का समूह        द्विगु समास
  • त्रिदोष                  तीन दोषों का समूह         द्विगु समास
  • सप्तसिन्धु            सात सिन्धुओं का समूह   द्विगु समास
  • पतित-पावन          पतितों को पावन करता है  बहुब्रीहि समास

ये भी अच्छे से जानें ⇓⇓

परीक्षा में आने वाले मुहावरे 

सर्वनाम व उसके भेद 

महत्वपूर्ण विलोम शब्द देखें 

विराम चिन्ह क्या है ?

 

परीक्षा में आने वाले ही शब्द युग्म ही पढ़ें 

पर्यायवाची शब्द 

(Visited 97 times, 3 visits today)
One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: कॉपी करना मना है