Visheshan – विशेषण : परिभाषा ,भेद , 500+ Top उदाहरण

आज की पोस्ट में हम हिंदी व्याकरण में विशेषण(Visheshan)को पढने वाले है। इसके अंतर्गत हम विशेष टॉपिक विशेषण की परिभाषा(Visheshan ki Paribhasha) , विशेषण किसे कहते है(Visheshan kise kahate Hain), विशेषण के भेद(Visheshan ke Bhed), विशेषण के उदाहरण(Visheshan ke Udaharan), adjective meaning in hindi,आदि को विस्तार से समझेंगे । इस आर्टिकल के अंत में परीक्षा उपयोगी महत्त्वपूर्ण प्रश्न भी दिए गए है ।

विशेषण – Visheshan

Table of Contents

विशेषण किसे कहते है – Visheshan Kise Kahate Hain

परिभाषा :- सरल शब्दों मे समझें कि किसी भी व्यक्ति,वस्तु क़ो उसकी विशेष बात से दर्शाना या उसकी विशेषता बताना विशेषण(Adjective) कहलाता है।

उदाहरण :- काला घोड़ा, हरा पैन,ईमानदार आदमी ,दो लीटर दूध

स्पष्टीकरण– यहां काला, हरा, ईमानदार, दो लीटर विशेषण है जो संज्ञा शब्दों की विशेषता बता रहे है।

नोट :- विशेषण संज्ञा की व्याप्ति मर्यादित करता है जैसे सफ़ेद कुत्ता

  • यहां कुत्ता कहने पर सब प्राणीयों का बोध होता है। कुत्ता कहने पर सभी रंगो के कुत्ते जुड़ जाते है । जिसकी संख्या ज़्यादा है और सफ़ेद कुत्ता कहने से उससे कम प्राणियों का बोध होता है। सिर्फ सफ़ेद रंग का कुत्ता। इस प्रकार विशेषण से सीमित मात्रा मे किसी वस्तु का बोध होता है ।

हम कुछ उदाहरण से विशेषण क़ो अच्छे से समझेंगे ।

उदाहरण-1

उसका मकान बहुत ऊँचा है।
स्पष्टीकरण – यहां मकान की विशेषता ऊँचा होना है

उदाहरण-2

सुरेश की कमीज बहुत सुंदर है।
स्पष्टीकरण – कमीज की सुंदरता के बारे मे बता रहे है

उदाहरण-3

तीनों बालक आ रहे है।
स्पष्टीकरण – यहा तीनो बालक की विशेषता बता रहे है।

उदाहरण-4

सीता दो मीटर पैदल चली।
स्पष्टीकरण – दो मीटर पैदल चलने की  विशेषता बता रहे है

उदाहरण-5

ताजमहल बहुत सुंदर इमारत है।

स्पष्टीकरण – यहां ताजमहल की  सुंदरता बता रहे है।

Visheshan

विशेषण परिभाषा (Visheshan in Hindi)

Visheshan

विशेषण की परिभाषा – Visheshan Ki Paribhasha

संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बतलाने वाले शब्दों को विशेषण(Visheshan) कहते है।” विशेषण का शाब्दिक अर्थ है – विशेषता बताना । विशेषण एक विकारी शब्द है । विशेषण शब्द वह विकारी शब्द है, जिससे संज्ञा या सर्वनाम शब्दो कि विशेषता पता चलती है। जिस प्रकार से हम किसी भी व्यक्ति या वस्तु का नाम लेने से पहले उस वस्तु के बारे मे कुछ विशेष बात करते है, तो वह उसकी विशेषता हुई ।

दोस्तो हिंदी में विकारी शब्द चार होते है –

  • संज्ञा
  • सर्वनाम
  • विशेषण
  • क्रिया

तो आज हम विशेषण(Visheshan) को विस्तार से समझेंगे –

विशेषण के उदाहरण  – Visheshan Ke Udaharan

जैसे : काला घोड़ा, मीठा आम, मोटा आदमी  आदि

विशेष्य और प्रविशेषण क्या है ?
जिन संज्ञा या सर्वनाम शब्दों की विशेषता बताई जाए वे विशेष्य कहलाते है। विशेषण शब्द की भी विशेषता बतलाने वाले शब्द प्रविशेषण कहलाते है। जैसे- श्याम सुन्दर बालक है।(विशेष्य विशेषण)  श्याम बहुत सुन्दर बालक है। (विशेष्य प्रविशेषण विशेषण)

विशेषण के भेद – Visheshan Ke Bhed

विशेषण के भेद : विशेषण मूलतः चार प्रकार के होते है-

गुणवाचक विशेषण किसे कहते है – Gunvachak Visheshan Kise Kahate Hain

जो शब्द किसी व्यक्ति या वस्तु के गुण, दोष, रंग, आकार, अवस्था, स्थिति, स्वभाव, दशा, दिशा, स्पर्श, गंध, स्वाद आदि का बोध कराए, गुणवाचक विशेषण कहलाते हैं।

गुणवाचक विशेषण के उदाहरण  –  Gunvachak Visheshan ke Udaharan

  • गुणबोधक : अच्छा, भला, शिष्ट, सभ्य, नम्र, सुशील, कर्मठ आदि।
  • दोषबोधक : बुरा, अशिष्ट, असभ्य, उद्दंड, दुश्शील, आलसी आदि।
  • रंगबोधक : काला, लाल, हरा, पीला, मटमैला, सफेद, चितकबरा आदि।
  • कालबोधक : नया, पुराना, ताजा, प्राचीन, नवीन, क्षणिक, क्षणभंगुर आदि।
  • स्थानबोधक : भारतीय, चीनी, राजस्थानी, जयपुरी, बिहारी, मद्रासी आदि।
  • गंधबोधक : खुश्बूदार, सुगंधित, बदबूदार आदि।
  • दिशाबोधक : पूर्वी, पश्चिमी, उत्तरी, दक्षिणी, भीतरी, बाहरी, ऊपरी आदि।
  • अवस्थाबेाधक : गीला, सूखा, जला हुआ, पिघला हुआ आदि।
  • दशाबोधक : रोगी, स्वस्थ, अस्वस्थ, अमीर, बीमार, सुखी, दुःखी, गरीब आदि।
  • आकारबोधक : मोटा, छोटा, लम्बा, पतला, गोल, चपटा, अण्डाकार आदि।
  • स्पर्शबोधक : कठोर, कोमल, मखमली, मुलायम, चिकना, खुरदरा आदि।
  • स्वादबोधक : खट्टा, मीठा, कसैला, नमकीन, चरपरा, कङवा, तीखा आदि।

 

संख्यावाचक विशेषण किसे कहते है – Sankhya Vachak Visheshan kise kahate hain

जिन शब्दों द्वारा संज्ञा या सर्वनाम की संख्या संबंधी विशेषता बताई जाये, उन्हें संख्यावाचक विशेषण(Sankhya Vachak Visheshan) कहते है।

जैसे :

  • मैदान में पाँच लङके खेल रहे है।
  • कक्षा में कुछ छात्र बैठे है।

उक्त उदाहरणों में ’पाँच’ निश्चित संख्या तथा ’कुछ’ अनिश्चित संख्या का बोध कराते है।

संख्यावाचक विशेषण के भेद

अतः संख्यावाचक विशेषण के दो भेद होते है :

  • निश्चित संख्यावाचक विशेषण
  • अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण
निश्चित संख्यावाचक विशेषण क्या है ?

जिन विशेषण शब्दों से निश्चित संख्या का बोध हो।

जैसे : दस आदमी, पन्द्रह लङके, पचास रूपये आदि।

निश्चित संख्यावाचक विशेषण के भेद

निश्चित संख्यावाचक विशेषण के भी चार प्रभेद होते हैं :

  1. गणनावाचक : एक, दो, तीन, चार………
  2. क्रमवाचक : पहला, दूसरा, तीसरा, चौथा……..
  3. आवृतिवाचक : दुगुना, तिगुना, चौगुना……………
  4. समुदायवाचक : दोनों, तीनों, चारों…………
अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण क्या है ?

जिन विशेषण शब्दों से निश्चित संख्या का बोध न हो।

जैसे : कुछ आदमी, बहुत लङके, थोङे से रूपये आदि।

अन्य उदाहरण :

  • आज भी देश में लाखों लोग भूखमरी के शिकार है।
  • रेल दुर्घटना में सैकङों यात्री घायल हो गए।
  • मुझे हजार-दो हजार रूपये दे दो।
  • कल सभा में लगभग एक हजार व्यक्ति थे।

अर्थात संख्यावाचक विशेषण में संख्यावाचक शब्दों का प्रयोग किया जाता है

परिणामवाचक विशेषण किसे कहते  है – Pariman vachak visheshan kise kahate hain

वे शब्द जो विशेष्यों की मात्रा (नाप, माप, तौल) का बोध कराते हैं, परिमाणवाचक विशेषण कहलाते है। ध्यान रखें कि परिमाणवाचक विशेषण में माप तौल की इकाई जरुर दी होगी l इस विशेषण का एकमात्र विशेष्य द्रव्यवाचक संज्ञा है।

जैसे :

  • थोङा दूध दीजिए, बच्चा भूखा है।
  • रामू के खेत में दस क्विंटल गेहूँ पैदा हुए।

उक्त वाक्यों में थोङा दूध अनिश्चयवाचक परिमाण तथा दस क्विंटल निश्चित परिमाण का बोध कराते हैं। इसी आधार पर परिमाणवाचक विशेषण के भी दो भेद होते हैं l जो निम्न है :

परिमाणवाचक विशेषण के भेद

  • निश्चित परिमाणवाचक विशेषण
  • अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण
निश्चित परिमाणवाचक विशेषण क्या है ?

जो निश्चित मात्रा का बोध कराये।

जैसे  :

  • दो मीटर कपङा
  • पाँच लीटर तेल
  • एक क्विंटल चावल आदि।
अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण क्या है ?

जो निश्चित मात्रा का बोध कराये।

जैसे  : सारा कपङा, ज्यादा लीटर तेल, अधिक चावल आदि।

संख्यावाचक एवं परिमाणवाचक विशेषण में अंतर

  • ⇒ संख्यावाचक में गणना होती है जबकि परिमाणवाचक में नापा या तौला जाता है।
  • ⇒संख्यावाचक में संख्या के बाद कोई संज्ञा या सर्वनाम शब्द होता है जबकि परिमाणवाचक में संख्या के बाद नाप, माप, तौल की इकाई होती है और उसके बाद पदार्थ (जातिवाचक संज्ञा) होता है।

सार्वनामिक/संकेतवाचक विशेषण क्या है – Sarvanamik vachak visheshan Kya Hain

वे विशेषण शब्द जो संज्ञा शब्द की ओर संकेत के माध्यम से विशेषता प्रकट करते है, संकेतवाचक विशेषण कहलाता है। चूँकि ये सर्वनाम शब्द होते हैं जो विशेषण की तरह प्रयुक्त होते हैं अतः इन्हें सार्वनामिक विशेषण भी कहते है।

सार्वनामिक विशेषण और सर्वनाम में अंतर

यदि इन शब्दों का प्रयोग संज्ञा या सर्वनाम शब्द से पहले हो, तो यह सार्वनामिक विशेषण कहलाते हैं और यदि ये अकेले अर्थात् संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त हेा तो सर्वनाम कहलाते हैं।

जैसे :

  • यह लङकी बहुत बुद्धिमती है। (सार्वनामिक विशेषण)
  • यह बहुत बुद्धिमती है। (निश्चयवाचक विशेषण)
  • उस देवी को मैं आज भी याद करता हूँ। (सार्वनामिक विशेषण)
  • उसको मैं आज भी याद करता हूँ। (निश्चयवाचक विशेषण)

नोट : कुछ विद्वान विशेषण का एक भेद और स्वीकार करते हैं।

व्यक्तिवाचक विशेषण – Vyakti vachak visheshan

वे विशेषण, जो व्यक्तिवाचक संज्ञाओं से बनकर अन्य संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बतलाते है उन्हें व्यक्तिवाचक विशेषण कहते है।

जैसे : भारतीय सैनिक, जापानी खिलौने, जयपुरी रजाइयाँ, जोधपुरी जूती, बनारसी साङी, कश्मीरी सेब, बीकानेरी भुजिया आदि।

गुणवाचक विशेषण की तुलना

जिन विशेषणों के द्वारा दो या अधिक विशेष्यों के गुण-अवगुण की तुलना की जाती है, उन्हें तुलनाबोधक विशेषण’ कहते हैं। तुलनात्मक दृष्टि से एक ही प्रकार की विशेषता बताने वाले पदार्थों या व्यक्तियों में मात्रा का अंतर होता है।

तुलना के विचार से विशेषणों की तीन विशेषताएँ होती है।

  1. मूलावस्था
  2. उत्तरावस्था
  3. उत्तमावस्था

1. मूलावस्था: इसके अंतर्गत विशेषणों का मूल रूप आता है। इस अवस्था में तुलना नहीं होती, सामान्य विशेषताओं का उल्लेख मात्र होता है।
जैसे -राम सुन्दर है।

2. उत्तरावस्थाः जब दो व्यक्तियों या वस्तुओं के बीच अधिकता या न्यूनता की तुलना होती है, तब उसे विशेषण की उत्तरावस्था कहते हैं।
जैसे – राम श्याम से सुन्दर है।

3. उत्तमावस्था: यह विशेषण की सर्वाेत्तम अवस्था है। जब दो से अधिक व्यक्तिओं या वस्तुओं के बीच तुलना की जाती है और उनमें से एक को श्रेष्ठता या निम्नता दी जाती है, तब विशेषण की उत्तमावस्था कहलाती है।

जैसे- राम सबसे सुन्दर है।

ऊपर बताये गए तरीके के अलावा विशेषण की मूलावस्था में तर और तम लगाकर उसके उत्तरावस्था और उत्तमावस्था को तुलनात्मक दृष्टि से दिखाया जाता है। इस प्रकार के कुछ उदाहरण देखे जा सकते हैं-

गुणवाचक विशेषण की अवस्थाएँ

मूलावस्था उत्तरावस्था उत्तमावस्था
प्रियप्रियतरप्रियतम
लघुलघुतरलघुतम
कोमलकोमलतरकोमलतम
निम्ननिम्नतरनिम्नतम
सुन्दरसुन्दरतरसुन्दरतम
उच्चउच्चतरउच्चतम
अधिकअधिकतरअधिकतम
महत्महत्तरमहत्तम
योग्ययोग्यतरयोग्यतम
सरलसरलतरसरलतम
कठोरकठोरतरकठोरतम
मधुरमधुरतरमधुरतम
न्यूनन्यूनतरन्यूनतम
निकटनिकटतरनिकटतम
कटुकटुतरकटुतम
महानमहानतरमहानतम
विशालविशालतरविशालतम
दृढ़दृढ़तरदृढ़तम
मृदुमृदुतरमृदुतम
तीव्रतीव्रतरतीव्रतम
तीक्ष्णतीक्ष्णतरतीक्ष्णतम
निर्बलनिर्बलतरनिर्बलतम
बलिष्ठबलिष्ठतरबलिष्ठतम
गुरुगुरुतरगुरुतम

विशेषण शब्द लिस्ट – Visheshan in Hindi Examples

संज्ञा से विशेषण शब्द – Sangya se Visheshan banana

स्वतंत्र रूप में विशेषणों की संख्या कम है। आवश्यकतानुसार संज्ञा से ही विशेषणों को बनाया जाता है।

संज्ञा विशेषण
अंकअंकित
अलंकारअलंकारिक
अर्थआर्थिक
अग्निआग्नेय
अंचलआंचलिक
अपेक्षाअपेक्षित
अनुशासनअनुशासित
अपमानअपमानित
अंशआंशिक
अधिकारअधिकारी
अभ्यासअभ्यस्त
आदरआदरणीय
आदिआदिम
आधारआधारित, आधृत
आत्माआत्मिक
इच्छाऐच्छिक
इतिहासऐतिहासिक
ईश्वरईश्वरीय/ऐश्वर्य
उपेक्षाउपेक्षित
उत्कर्षउत्कृष्ट
उद्योगऔद्योगिक
उपनिषद्औपनिषदिक
उपन्यासऔपन्यासिक
उपार्जनउपार्जित
उपदेशउपदेशात्मक, उपदिष्ट
उपनिवेशऔपनिवेशिक
उन्नतिउन्नतिशील
ऋणऋणी
कल्पनाकल्पित
कामकाम्य
केन्द्रकेन्द्रीय
कृपाकृपालु
कपटकपटी
कुलकुलीन
कुसुमकुसुमि
गंगागांगेय
गुणगुणवान
ग्रामग्रामीण/ग्राम्य
घरघरेलू
घृणाघृणित
चर्चाचर्चित
चरित्रचारित्रिक
चक्षुचाक्षुष
चाचाचचेरा
चमकचमकीला
चायचायवाला
छलछलिया
जातिजातीय
तर्कतार्किक
तत्वतात्विक
तंत्रतांत्रिक
तिरस्कारतिरस्कृत
तरंगतरंगिनी
दर्शनदर्शनीय
दानदानी
देशदेशीय/देशी
देवदिव्य/दैविक
देहदैहिक
दयादयालु
धर्मधार्मिक
धनधनी
ध्वनिध्वनित
नगरनागरिक
निशानैश
निषेधनिषिद्ध
नरकनारकीय
न्यायन्यायिक
नमकनमकीन
नीलनीला
पशुपाश्विक
परीक्षापरीक्षित
प्रमाणप्रामाणिक
पापपापी
पितापैतृक
परिचयपरिचित
पल्लवपल्लवित
प्राचीप्राच्य
प्रणामप्रणम्य

विशेषण शब्दों की रचना

संज्ञाविशेषण
पुष्टिपौष्टिक
पुराणपौराणिक
पक्षपाक्षिक
पुष्पपुष्पित
पूजापूज्य
पुत्रपुत्रवती
प्यासप्यासा
फेनफेनिल
बुद्धबौद्ध
बलबली
भारतभारतीय
भावभावुक
भोगभोगी
मनमनस्वी
भूगोलभौगोलिक
भोजनभोज्य
मानसमानसिक
मातामातृक
मंगलमांगलिक
मामाममेरा
मेधामेधावी
मर्ममार्मिक
मासमासिक
यशयशस्वी
योगयौगिक
राजराजकीय
रंगरंगीन/रंगीला
राष्ट्रराष्ट्रीय
रसरसीला/रसिक
रोमरोमिल
रूपरूपवान/रूपवती
रोगरोगी
लक्षणलाक्षणिक
लेखलिखित
वेदवैदिक
विशेषविशिष्ट
विकल्पवैकल्पिक
विवाहवैवाहिक
विज्ञानवैज्ञानिक
विश्वासविश्वसनीय,विश्वस्त
वर्गवर्गीय
व्यक्तिवैयक्तिक
व्यापारव्यापारिक
विपतिविपन्न
वादवादी
समयसामयिक
साहित्यसाहित्यिक
स्तुतिस्तुत्य
समुदायसामुदायिक
सिद्धान्तसैद्धान्तिक
स्त्रीस्त्रैण
सुखसुखी
श्रीश्रीमान्
संस्कृतसांस्कृतिक
सभासभ्य
स्वर्णस्वर्णिम
शक्तिशाक्त
शिक्षाशैक्षिक
शास्त्रशास्त्रीय
शंकाशंकित
शिवशैव
शोषणशोषित
शासनशासित
हृदयहार्दिक
हवाहवाई
हँसीहँसोङा
हिंसाहिंसक
श्रद्धाश्रद्धालु
ज्ञानज्ञानी
विरोधविरोधी
क्षेत्रक्षेत्रीय
क्षणक्षणिक
प्यारप्यारा
समाजसामाजिक
जयपुरजयपुरी
विषविषैला
बुद्धिबुद्धिमान
गुणगुणवान
दूरदूरस्थ
शहरशहरी
क्रोधक्रोधी
शरीरशारीरिक
शक्तिशक्तिमान
रूपरूपवान
सृजनसृजनहार
पालनपालनहार
रथरथवाला
दूधदूधवाला
भूखभूखा
स्वर्गस्वर्गीय
चमकचमकीला
नोकनुकीला

विशेषण शब्दों की रचना

संज्ञाविशेषण
धनधनहीन
तेजतेजहीन
दयादयाहीन
मनमानसिक
अभिषेकअभिषिक्त
अनुरागअनुरागी
अन्यायअन्यायी
आश्रयआश्रित
अनुमोदनअनुमोदित
ईसाईस्वी
उन्नतिउन्नत
अनुभवअनुभवी
अन्तरआन्तरिक
अंकनअंकित
आसक्तिआसक्त
अणुआणविक
अपराधअपराधी
ईर्ष्याईर्ष्यालु
उपयोगउपयुक्त
ऋषिआर्ष
ओष्ठओष्ठ्य
कांटाकंटीला
कागजकागजी
क्रमक्रमिक
कमाईकमाऊ
क्रयक्रीत
कलंककलंकित
खूनखूनी
खेलखिलाङी
खानखनिज
गर्वगर्वीला
घनिष्ठताघनिष्ठ
गुलाबगुलाबी
गर्मीगर्म
घावघायल
जटाजटिल
चाचाचचेरा
जहरजहरीला
जागरणजाग्रत
जंगलजंगली
त्यागत्याज्य
तन्त्रतान्त्रिक
देशदेशी
दम्पतिदाम्पत्य
नाटकनाटकीय
निन्दानिन्द्य/निन्दनीय
दगादगाबाज
धर्मधार्मिक
नावनाविक
निषेधनिषिद्ध
पुस्तकपुस्तकीय
पराजयपराजित
परिचयपरिचित
पृथ्वीपार्थिक
कुटुम्बकौटुम्बिक
किताबकिताबी
कालकालीन
क्लेशकिलष्ट
करुणाकरुण
खर्चखर्चीला
खानाखाऊ
ख्यातिख्यात
गृहस्थगार्हस्थ्य
गांवगंवार

विशेषण शब्दों की रचना

संज्ञाविशेषण
गेरुगेरुआ
घमण्डघमण्डी
घातघातक
चर्चाचर्चित
चिन्ताचिन्त्य
चरित्रचारित्रिक
जवाबजवाबी
जातिजातीय
तापतप्त
दन्तदन्त्य
दिनदैनिक
नियमनियमित
पत्थरपथरीला
पुरुषपौरुषेय
प्रान्तप्रान्तीय
प्रदेशप्रादेशिक
पाठकपाठकीय
पश्चिमपाश्चात्य
प्रशंसाप्रशंसनीय
परिवारपारिवारिक
फलफलित
भूतभौतिक
भाषाभाषिक
भयभयानक
मोहमोहक/मोहित
मिथिलामैथिल
मथुरामाथुर
मुखमौखिक
मूलमौलिक
यज्ञयाज्ञिक
यदुयादव
रसीदरसीदी
राष्ट्रराष्ट्रीय
राहराही
लज्जालज्जित
लोभलोभी
विकारविकृत
वन्दनावन्द्य/वन्दनीय
वियोगवियोगी
संसारसांसारिक
स्वभावस्वाभाविक
पानीपानीय/पेय
पुष्टिपौष्टिक
प्रसंगप्रासंगिक
बलबलिष्ठ
भ्रमभ्रामक/भ्रमित
भूषणभूषित
भूखभूखा
माधुर्यमधुर
मूर्च्छामूर्छित
मनुमानव
मर्ममार्मिक
मांसमांसल
मृत्युमत्र्य
योगयोगी
यशयशपाल
रुद्ररौद्र
राक्षसराक्षसी
रोमांचरोमांचित
लाठीलठैत
लोहालौह
विस्मयविस्मित
विपतिविपन्न
व्यवसायव्यावसायिक
विजयविजयी
विवेकविवेकी
विधानवैधानिक
वेतनवैतनिक
विषयविषयी
वास्तववास्तविक
समाजसामाजिक
स्वप्नस्वप्निल
स्मृतिस्मार्त
संकेतसांकेतिक
शिवशैव
शास्त्रशास्त्रीय
हिंसाहिसंक
सम्बन्धसम्बन्धी
विदेशविदेशी/वैदेशिक
शरद्शारदीय
देहलीदेहलवी
बरेलीबरेलवी
मुरादाबादमुरादाबादी
सूर्यसौर
समाससामासिक
सन्देहसंदिग्ध
सिन्धुसैन्धव
सोनासुनहरा
शौकशौकीन
शास्त्रशास्त्रीय
श्यामश्यामल
शृंगारशृंगारिक
क्षमाक्षम्य
विष्णुवैष्णव
स्तुतिस्तुत्य
स्वदेशस्वदेशी
नीतिनैतिक
संयोगसंयुक्त
लखनऊलखनवी
पहाङपहाङी

विशेषण अभ्यास प्रश्न – Visheshan ke Abhyas prashn

1. विशेषण के भेदों का सही समूह है –

(अ) व्यक्तिवाचक, गुणवाचक, संबंधवाचक, सार्वनामिक
(ब) गुणवाचक, परिणामवाचक, संख्यावाचक, भाववाचक
(स) व्यक्तिवाचक, संबंधवाचक, निश्चयवाचक, निजवाचक
(द) गुणवाचक, परिमाणवाचक, संख्यावाचक, सार्वनामिक ✔️

2. ’उत्कर्ष’ से विशेषण क्या बनेगा ?

(अ) अपकर्ष (ब) अवकर्ष
(स) उत्कृष्ट ✔️ (द) अधोकृष्ट

3. अर्थ की दृष्टि से विशेषण के कितने भेद माने गए हैं –

(अ) चार ✔️ (ब) तीन
(स) पाँच (द) छह

4. निम्नलिखित वाक्यों में से एक वाक्य में विशेषण सम्बन्धी अशुद्धि नहीं है, वह कौन-सा है?
(अ) उसमें एक गोपनीय रहस्य है।
(ब) आप जैसा अच्छा सज्जन कौन होगा।
(स) कहीं से खूब ठण्डा बर्फ लाओ।
(द) वहाँ ज्वर की सर्वोत्कृष्ट चिकित्सा होती है। ✔️

5. विशेष्य किसे कहते हैं –
(अ) जो विशेषता बताई जाए
(ब) जिसकी विशेषता बताई जाए ✔️
(स) जो विशेषता बताए
(द) इनमें से कोई नहीं

6. ’आलस्य’ संज्ञा का विशेषण रूप क्या है?
(अ) आलस (ब) अलसता
(स) आलसी ✔️ (द) आलसीपन

7. संज्ञा या सर्वनाम के गुण, आकार, रंग, दशा, काल और स्थान का बोध करानेवाले विशेषण हैं –
(अ) परिमाणवाचक (ब) गुणवाचक ✔️
(स) संख्यावाचक (द) सार्वनामिक

8. ’शक्ति’ शब्द से बननेवाला विशेषण कौनसा नहीं है?
(अ) शक्तिशाली (ब) शाक्त
(स) शक्तिमान (द) शक्तियाँ ✔️

9. ’दानवीर कर्ण का सभी स्मरण करते हैं।’ वाक्य का ’दानवीर’ शब्द कौनसा विशेषण है?
(अ) परिमाण वाचक (ब) गुणवाचक ✔️
(स) संख्यावाचक (द) सार्वनामिक

10. निम्नलिखित शब्दों में कौनसा शब्द विशेषण है?
(अ) सच्चा ✔️ (ब) शीतलता
(स) नम्रता (द) देवत्व

11. अच्छा-बुरा, सुगंधित, उत्तरी-पूर्वी, प्राचीन आदि विशेषण किस प्रकार के हैं –
(अ) परिमाणवाचक (ब) संख्यावाचक
(स) गुणवाचक ✔️ (द) स्थानवाचक

12. निम्नलिखित में से प्रविशेषण शब्द है –
(अ) गहरा कुआँ (ब) बहुत खर्च
(स) निपट अनाङी ✔️ (द) शांत लङका

13. ’संस्कृति’ संज्ञा किस विशेषण शब्द से बना है?
(अ) संस्कृत ✔️ (ब) सुकृति
(स) सांस्कृतिक (द) संस्कार

14. निम्नांकित में विशेषण है?
(अ) सुलेख (ब) आकर्षक ✔️
(स) हव्य (द) पौरुष

15. निम्नलिखित में से विशेषण शब्द है –
(अ) नारी (ब) सुबह
(स) पिता (द) पैतृक ✔️

16. ’मानव’ शब्द से विशेषण बनेगा –
(अ) मनुष्य (ब) मानवीकरण
(स) मानवता (द) मानवीय ✔️

17. ’आदर’ शब्द से विशेषण बनेगा –
(अ) आदरकारी (ब) आदरपूर्वक
(स) आदरणीय ✔️ (द) इनमें से कोई नहीं

18. ’पाणिनि’ का विशेषण क्या होगा?
(अ) पाणनीय (ब) पाणिनीय ✔️
(स) पाणीनी (द) पाणिनी

19. ’आतंकवाद से पीङित मानवता की पुकार अनसुनी नहीं की जा सकती है।’ वाक्य में ’पीङित’ शब्द है –
(अ) भाववाचक संज्ञा (ब) परिमाणवाचक विशेषण
(स) गुणवाचक विशेषण ✔️ (द) संख्यावाचक विशेषण

20. इनमें से गुणवाचक विशेषण कौन-सा है ?
(अ) चौगुना (ब) नया ✔️
(स) तीन (द) कुछ

विशेषण के वस्तुनिष्ठ प्रश्न – Visheshan in Hindi

21. किस वाक्य में ’अच्छा’ शब्द का प्रयोग विशेषण के रूप में हुआ है?
(अ) तुमने अच्छा किया जो आ गए।
(ब) यह स्थान बहुत अच्छा है। ✔️
(स) अच्छा, तुम घर जाओ।
(द) अच्छा है, वह अभी आ जाए।

22. विशेषण किस शब्द की विशेषता बताते हैं ?
(अ) कारक की (ब) संज्ञा की
(स) सर्वनाम की (द) संज्ञा और सर्वनाम की ✔️

23. निम्नलिखित में से गुणवाचक विशेषण समूह है –
(अ) थोङा, कुछ, पाश्चात्य, गंभीर, ढेर सारा
(ब) एक दर्जन, वह, पतली, प्रत्येक, थोङा
(स) कठोर, खुरदरा, जापानी, स्वस्थ, कसैला ✔️
(द) थोङा, कुछ, खुरदरा, प्रत्येक, वह

24. विशेषण का प्रयोग होता है –
(अ) विशेष्य के पहले (ब) विशेष्य के बाद
(स) उपर्युक्त दोनों ✔️ (द) उपर्युक्त कोई नहीं

25. जयपुरी रजाइयाँ जयपुर का महत्त्वपूर्ण उत्पादन है। इस वाक्य में विशेषण है –
(अ) जयपुरी-उत्पादन (ब) महत्त्वपूर्ण-भारत
(स) महत्त्वपूर्ण-रजाइयाँ (द) जयपुरी-महत्त्वपूर्ण ✔️

26. निम्न में से कौनसा संख्यावाचक विशेषण का प्रकार है?
(अ) समूहवाचक (ब) गणनावाचक
(स) क्रमवाचक (द) उपर्युक्त सभी ✔️

27. ’आँखों की ज्योति के लिए हरा रंग अच्छा माना गया है’ वाक्य में विशेषण है –
(अ) रंग (ब) ज्योति
(स) हरा ✔️ (द) अच्छा

28. ’बहुत-कुछ’ शब्द किस संख्यावाचक विशेषण का प्रकार है?
(अ) अनिश्चित संख्यावाचक ✔️
(ब) गणनावाचक
(स) क्रमवाचक
(द) प्रत्येक बोधक

29. संज्ञा या सर्वनाम की माप-तौल संबंधी विशेषता को प्रकट करने वाले शब्दों को कहते हैं –
(अ) परिमाणवाचक विशेषण ✔️
(ब) परिणामवाचक विशेषण
(स) सार्वनामिक विशेषण
(द) संख्यावाचक विशेषण

30. प्रविशेषण किसे कहते हैं?
(अ) विधेय की विशेषता बतानेवाला शब्द
(ब) विशेष्य की विशेषता बतानेवाला शब्द
(स) विशेषण की विशेषता बतानेवाला शब्द ✔️
(द) विशेषण के पूर्व लगनेवाला विशेषण

31. परिमाणवाचक विशेषण कितने प्रकार के माने गए हैं-
(अ) दो ✔️ (ब) तीन
(स) चार (द) इनमें से कोई नहीं

32. सार्वनामिक विशेषण कहाँ आते हैं?
(अ) सर्वनाम के बाद (ब) संज्ञा के पहले ✔️
(स) संज्ञा के बाद (द) उपर्युक्त कोई नहीं

33. ’यह गाय प्रतिदिन पाँच लीटर दूध देती है।’ रेखांकित शब्द में विशेषण है –
(अ) अनिश्चित परिमाणवाचक
(ब) निश्चित परिमाणवाचक ✔️
(स) गुणवाचक
(द) संख्यावाचक

34. इन शब्दों में से कौनसा विशेषण अविकारी है?
(अ) बुरा (ब) पतला
(स) मधुर ✔️ (द) सीधा

35. जिन विशेषणों के द्वारा संज्ञा या सर्वनाम के निश्चित परिमाण का बोध नहीं होता, कहलाते हैं –
(अ) निश्चित परिमाणवाचक
(ब) संख्यावाचक
(स) अनिश्चित परिमाणवाचक ✔️
(द) सार्वनामिक

36. निम्न में से कौनसा तुलनात्मक विशेषण नहीं है?
(अ) सुन्दरतम (ब) सुन्दरतर
(स) सुन्दर ✔️ (द) से सुन्दर

37. ’वह ढेर सारे खिलौने लाया है।’ वाक्य में रेखांकित शब्द है –
(अ) निश्चित परिमाणवाचक सर्वनाम
(ब) अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण
(स) अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण
(द) निश्चित संख्यावाचक सर्वनाम ✔️

38. निम्नलिखित वाक्यों में से विशेषण की दृष्टि से अशुद्ध कौनसा है?
(अ) मधु बहुत चंचला है।
(ब) कमरा खाली नहीं है।
(स) गुङिया कुरूप है।
(द) गुङिया बारीक नाचती है। ✔️

39. निम्नलिखित में से विशेषण है –
(अ) चिकना ✔️ (ब) आम
(स) ममता (द) हरियाली

40. ’यह’ शब्द से बना विशेषण क्या है?
(अ) ऐसा ✔️ (ब) इसका
(स) ये (द) वैसा

विशेषण के प्रश्न – Visheshan ke prashn

41. विशेषण परिमाणवाचक है या संख्यावाचक इसकी पहचान होगी –
(अ) वस्तु गिनने योग्य है या मापने-तौलने योग्य ✔️
(ब) वस्तु की मात्रा के आधार पर
(स) वस्तु के वजन के आधार पर
(द) वस्तु की माप के आधार पर

42. विशेषण-विशेष्य का कौनसा युग्म अशुद्ध है?
(अ) श्रेष्ठ व्यक्ति (ब) सुंदरी लङकी
(स) गोल प्रश्न ✔️ (द) दो किलो घी

43. ’वह पुस्तक अच्छी है’ में ’वह’ शब्द है –
(अ) सर्वनाम
(ब) सार्वनामिक विशेषण ✔️
(स) निश्चित गुणवाचक विशेषण
(द) निश्चयवाचक सर्वनाम

44. संज्ञा से बने विशेषण का कौनसा युग्म अशुद्ध है?
(अ) दिन-दैनिक (ब) सुख-सुखी
(स) धन-धनिक (द) कंगाल-कंगाली ✔️

45. विशेष्य से पूर्व प्रयुक्त होने वाले विशेषणों को कहते हैं –
(अ) उद्देश्य विशेषण ✔️ (ब) विधेय विशेषण
(स) सार्वनामिक विशेषण (द) प्रविशेषण

46. विशेषण की अवस्थाओं को कहा जाता है –
(अ) मूल अवस्था (ब) उत्तरावस्था
(स) उत्तम अवस्था (द) उपर्युक्त तीनों ✔️

47. ’यदि व्यक्ति ईमानदार हो तो उसका सर्वत्र सम्मान होता है।’ वाक्य में ईमानदार शब्द के विशेषण रूप का चुनाव कीजिए –
(अ) उद्देश्य विशेषण
(ब) विधेय-विशेषण
(स) गुणवाचक विधेय विशेषण ✔️
(द) गुणवाचक उद्देश्य विशेषण

48. विशेषण की कितनी अवस्थाएँ होती हैं?
(अ) तीन ✔️ (ब) चार
(स) पाँच (द) छह

49. विशेषण की भी विशेषता बताने वाले शब्दों को कहते हैं –
(अ) विकारी विशेषण (ब) अविकारी विशेषण
(स) प्रविशेषण ✔️ (द) क्रिया विशेषण

Visheshan in Hindi Examples

50. प्रयोग के आधार पर संख्यावाचक विशेषण के कितने भेद हैं?
(अ) छह (ब) सात ✔️
(स) आठ (द) पाँच

51. निम्नलिखित में से कौन-से अपूर्णांकबोधक संख्यावाचक विशेषण के उदाहरण हैं?
(अ) एक, दो, तीन, दस, पचास, सौ
(ब) आधा, पाव, तिहाई, डेढ़, पौन ✔️
(स) पहला, दूसरा, पाँचवा, दसवाँ
(द) दुगुना, इकहरा, दसगुना

52. ’गीता सबसे कुरूप है’ वाक्य में विशेषण के कितने भेद हैं?
(अ) प्रथमावस्था (ब) उत्तमावस्था ✔️
(स) उत्तरावस्था (द) मूलावस्था

53. निम्नलिखित में से विशेषण चुनिए।
(अ) भलाई (ब) मिठास
(स) थोङा ✔️ (द) लालच

54. निम्नलिखित में कौन सी अवस्था विशेषण की नहीं है?
(अ) मूलावस्था (ब) उत्तमावस्था
(स) उत्तरावस्था (द) मध्यावस्था ✔️

55. निम्नलिखित वाक्य में ’कुछ’ शब्द विशेषण है, उसका भेद छाँटिए –
कुछ बच्चे कक्षा में शोर मचा रहे थे।
(अ) गुणवाचक विशेषण
(ब) अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण
(स) सार्वनामिक विशेषण
(द) अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण ✔️

56. ’मुझे थोङा घी चाहिए’ वाक्य में ’थोङा’ शब्द में कौनसा विशेषण है?
(अ) निश्चित संख्यावाचक
(ब) अनिश्चित संख्यावाचक
(स) अनिश्चित परिमाणवाचक ✔️
(द) निश्चित परिमाणवाचक

57. ’’बहुत तेज बारिश हो रही थी’’ वाक्य में प्रविशेषण क्या है?
(अ) बहुत ✔️ (ब) तेज
(स) बारिश (द) हो रही

58. ’’यह दृश्य अति सुन्दर है’’ वाक्य में ’अति’ क्या है?
(अ) क्रिया (ब) विशेषण
(स) संज्ञा (द) प्रविशेषण ✔️

59. ’’सब चूहे पकङ में आ गए’’ वाक्य में विशेषण कौनसा है?
(अ) गुणवाचक (ब) परिमाणबोधक
(स) स्थानवाचक (द) अनिश्चित संख्यावाचक ✔️

60. ’’बगीचे में सुंदर फूल खिले हैं’’ वाक्य में कौनसा विशेषण है?
(अ) संख्यावाचक (ब) गुणवाचक ✔️
(स) परिमाणवाचक (द) सार्वनामिक

61. ’’वह दसवीं कक्षा में पढ़ता है’’ वाक्य में कौनसा विशेषण है?
(अ) निश्चित संख्यावाचक ✔️
(ब) अनिश्चित संख्यावाचसक
(स) गुणवाचक
(द) परिमाणवाचक

62. ’’प्रधानमंत्री का आवास पाँचवें रास्ते पर है’’ वाक्य में कौनसा विशेषण प्रयुक्त हुआ है?
(अ) निश्चित संख्यावाचक (ब) क्रमवाचक ✔️
(स) कालवाचक (द) स्थानवाचक

63. विशेष्य से पहले आनेवाले विशेष्य को क्या कहते हैं?
(अ) क्रिया विशेषण (ब) प्रविशेषण
(स) उद्देश्य विशेषण ✔️ (द) विधेय विशेषण

64. ’’कुछ लङकियाँ आ रहीं हैं’’ वाक्य में प्रयुक्त विशेषण है?
(अ) संख्यावाचक (ब) परिणामवाचक
(स) गुणवाचक (द) अनिश्चय संख्यावाचक ✔️

65. किसी व्यक्ति के रूप-गुण आदि को व्यक्त करने वाले विशेषण को क्या कहा जाता है?
(अ) सार्वनामिक विशेषण
(ब) परिमाणवाचक विशेषण
(स) व्यक्तिवाचक विशेषण
(द) गुणवाचक विशेषण ✔️

66. ’’गाय का दूध स्वास्थ्य के लिए सर्वोत्तम औषधि है’’ वाक्य में कौनसा विशेषण प्रयुक्त हुआ है?
(अ) सार्वनामिक (ब) गुणवाचक ✔️
(स) परिमाणवाचक (द) संख्यावाचक

67. संज्ञा-सर्वनाम की विशेषता सर्वनाम से प्रकट करने वाले विशेषण का क्या कहते हैं?
(अ) गुणवाचक (ब) सार्वनामिक ✔️
(स) व्यक्तिवाचक (द) परिमाणवाचक

68. ’’परिश्रमी छात्र सदा सफल होते हैं’’ वाक्य मंें प्रयुक्त विशेषण है –
(अ) परिमाणवाचक (ब) संख्यावाचक
(स) गुणवाचक ✔️ (द) सार्वनामिक

69. ’’मै’ शब्द से कौनसा विशेषण बनता है?
(अ) मुझे (ब) मेरा ✔️
(स) मुझमें (द) मुझसे

70. ’’उस घर में कौन रहता है?’’ वाक्य में ’उस’ कौनसा विशेषण है?
(अ) गुणवाचक (ब) संख्यावाचक
(स) परिमाणवाचक (द) सार्वनामिक विशेषण ✔️

Visheshan Examples

71. ’शिक्षा’ शब्द से बना विशेषण क्या है?
(अ) शिक्षक (ब) शिक्षित ✔️
(स) शिक्षिका (द) शिक्षालय

72. निम्न में से गुणवाचक विशेषण कौनसा नहीं है?
(अ) युवा (ब) पचास ✔️
(स) लम्बा (द) काला

73. ’विज्ञान’ शब्द का बना विशेषण क्या है?
(अ) वैज्ञानिक ✔️ (ब) विज्ञानी
(स) विज्ञानशाला (द) विज्ञानीय

74. निम्न में से कालबोधक विशेषण कौन सा है?
(अ) भला (ब) बुरा
(स) पुराना ✔️ (द) गीला

75. ’’वे पुस्तकें तुम्हारी हैं और ये मेरी।’’ इस वाक्य में विशेषण क्या है?
(अ) वे (ब) तुम्हारी
(स) मेरी (द) ये तीनों ✔️

76. किस वाक्य में ’अच्छा’ शब्द का प्रयोग विशेषण के रूप में हुआ है?
(अ) अच्छा, तुम घर आओ।
(ब) अच्छा है, वह अभी घर आ जाए।
(स) तुमने अच्छा किया जो आ गए।
(द) यह स्थान बहुत अच्छा है। ✔️

77. ’मुझे’ हरा रंग पसन्द है? वाक्य में कौनसा विशेषण है?
(अ) गुणवाचक ✔️ (ब) संख्यावाचक
(स) परिमाणवाचक (द) गुणवाचक

78. ’पशु’ शब्द का विशेषण क्या है?
(अ) पशुता (ब) पशुपति
(स) पशुत्व (द) पाशविक ✔️

79. ’बुरा लङका’ शब्दों में कौनसा विशेषण है?
(अ) गुणवाचक ✔️ (ब) संख्यावाचक
(स) परिमाणवाचक (द) सार्वनामिक

80. ’’लक्ष्मण एक कुशल कार्यकर्ता है’’ वाक्य में विशेषण क्या है?
(अ) कार्यकर्ता (ब) कुशल ✔️
(स) लक्ष्मण (द) एक

81. ’अर्थ’ शब्द से बना विशेषण क्या है?
(अ) अनर्थ (ब) आर्थिक ✔️
(स) अर्थशास्त्र (द) अर्थवत्ता

82. ’’यही लङका गवैया है, वाक्य में यही कौनसा विशेषण है?
(अ) सार्वनामिक विशेषण ✔️
(ब) संख्यावाचक विशेषण
(स) गुणवाचक विशेषण
(द) परिमाणवाचक विशेषण

निष्कर्ष –  Conclusion

दोस्तो आज की पोस्ट में हमने विशेषण (Visheshan) के बारे में विस्तार से पढ़ा ,हम आशा करते है कि इस टॉपिक में आपको सभी पॉइंट्स समझ में आ गए होंगे । फिर भी इस टॉपिक में कोई समस्या हो तो नीचे कमेंट में जरुर लिखें ।

गुणवाचक विशेषण

संख्यावाचक विशेषण

परिमाणवाचक विशेषण

सार्वनामिक/संकेतवाचक विशेषण

महत्त्वपूर्ण लिंक :

सूक्ष्म शिक्षण विधि    🔷 पत्र लेखन      

  🔷प्रेमचंद कहानी सम्पूर्ण पीडीऍफ़    🔷प्रयोजना विधि 

🔷 सुमित्रानंदन जीवन परिचय    🔷मनोविज्ञान सिद्धांत

🔹रस के भेद  🔷हिंदी साहित्य पीडीऍफ़  

🔷शिक्षण कौशल  🔷लिंग (हिंदी व्याकरण)🔷 

🔹सूर्यकांत त्रिपाठी निराला  🔷कबीर जीवन परिचय  🔷हिंदी व्याकरण पीडीऍफ़    🔷 महादेवी वर्मा

Tags :

  • visheshan ki paribhasha
  • visheshan in hindi
  • types of adjectives
  • visheshan
  • kinds of adjective
  • adjective in hindi
  • adjective meaning in hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top