वाक्य और उसके भेद

आज की पोस्ट में हम हिंदी व्याकरण के अंतर्गत महत्वपूर्ण विषय वाक्य और उसके भेद (vakay or bhed)पर चर्चा करेंगे ,आप इसे अच्छे से समझें |

वाक्य और वाक्य के भेद(vakay or vakay ke bhed)

 

दो या दो से अधिक पदों के सार्थक समूह को, जिसका पूरा पूरा अर्थ निकलता है, वाक्य कहते हैं।

उदाहरण के लिए ‘सत्य की विजय होती है।’

एक वाक्य है क्योंकि इसका पूरा पूरा अर्थ निकलता है किन्तु ‘सत्य विजय होती।’ वाक्य नहीं है क्योंकि इसका अर्थ नहीं निकलता है।

वाक्य के भेद(types of sentences)

वाक्य भेद दो प्रकार से किए जा सकते हँ-

  • अर्थ के आधार पर वाक्य भेद
  • रचना के आधार पर वाक्य भेद

अर्थ के आधार पर वाक्य के भेद

अर्थ के आधार पर आठ प्रकार के वाक्य होते है –

  • विधान वाचक वाक्य
  • निषेधवाचक वाक्य
  • प्रश्नवाचक वाक्य
  • विस्म्यादिवाचक वाक्य
  • आज्ञावाचक वाक्य
  • इच्छावाचक वाक्य
  • संकेतवाचक वाक्य
  • संदेहवाचक वाक्य

वि‌‌धानवाचक सूचक वाक्य

वह वाक्य जिससे किसी प्रकार की जानकारी प्राप्त होती है, वह वि‌‌धानवाचकवाक्य कहलाता है।

उदाहरण –

  • भारत एक देश है।
  • राम के पिता का नाम दशरथ है।
  • दशरथ अयोध्या के राजा हैं।

निषेधवाचक वाक्य

जिन वाक्यों से कार्य न होने का भाव प्रकट होता है, उन्हें निषेधवाचक वाक्य कहते हैं।

जैसे-

  • मैंने दूध नहीं पिया।
  • मैंने खाना नहीं खाया।

प्रश्नवाचक वाक्य

वह वाक्य जिसके द्वारा किसी प्रकार प्रश्न किया जाता है, वह प्रश्नवाचक वाक्य कहलाता है। उदाहरण –

  • भारत क्या है?
  • राम के पिता कौन है?
  • दशरथ कहाँ के राजा है?

आज्ञावाचक वाक्य

वह वाक्य जिसके द्वारा किसी प्रकार की आज्ञा दी जाती है या प्रार्थना किया जाता है, वह विधिसूचक वाक्य कहलाता हैं।

उदाहरण –

  • कृपया बैठ जाइये।
  • शांत रहो।
  • कृपया शांति बनाये रखें।

विस्मयादिवाचक वाक्य

वह वाक्य जिससे किसी प्रकार की गहरी अनुभूति का प्रदर्शन किया जाता है, वह विस्मयादिवाचक वाक्य कहलाता हैं। उदाहरण –

  • अहा! कितना सुन्दर उपवन है।
  • ओह! कितनी ठंडी रात है।
  • बल्ले! हम जीत गये।

हिंदी साहित्य योजना से जुड़ें 

इच्छावाचक वाक्य

जिन वाक्य‌ों में किसी इच्छा, आकांक्षा या आशीर्वाद का बोध होता है, उन्हें इच्छावाचक वाक्य कहते हैं।

उदाहरण-

  • भगवान तुम्हें दीर्घायु करे।
  • नववर्ष मंगलमय हो।

संकेतवाचक वाक्य

जिन वाक्यों में किसी संकेत का बोध होता है, उन्हें संकेतवाचक वाक्य कहते हैं।

उदाहरण-

  • राम का मकान उधर है।
  • सोनु उधर रहता है।

संदेहवाचक वाक्य

जिन वाक्य‌ों में संदेह का बोध होता है, उन्हें संदेहवाचक वाक्य कहते हैं।

उदाहरण-

  • क्या वह यहाँ आ गया ?
  • क्या उसने काम कर लिया ?

रचना के आधार पर वाक्य के भेद

वाक्य और उसके भेद

रचना के आधार पर वाक्य के निम्नलिखित तीन भेद होते हैं-‘

 

(1)सरल वाक्य/साधारण वाक्य(saral vakay/sadharan vakay)

एक ही विधेय होता है, उन्हें सरल वाक्य या साधारण वाक्य कहते हैं, इन वाक्यों में एक ही क्रिया होती है;

जैसे-

  • मुकेश पढ़ता है।
  • राकेश ने भोजन किया।

 

(2) संयुक्त वाक्य(sanyukt vakay)

 

जिन वाक्यों में दो-या दो से अधिक सरल वाक्य समुच्चयबोधक अव्ययों से जुड़े हों, उन्हें संयुक्त वाक्य कहते है;

 

जैसे- वह सुबह गया और शाम को लौट आया।

  • प्रिय बोलो पर असत्य नहीं।
  • इसकी तलाशी लो और घङी मिल जाएगी।
  • करो या मरो।
  • मोहन एक पुस्तक चाहता था और वह उसे मिल गई।
  • मैं वहाँ पहुँचा और तुरन्त घंटा बजा।

 

  • मनोहर या तो स्वयं आएगा या तार भेजेगा।
  • विनय चुस्त न हो पर है समझदार।
  • शेर घायल हुआ, परन्तु मारा नहीं गया।

 

  • मुझे तार मिला और में तुरन्त चल पङा।
  • दवा लो और बुखार कम हो जाएगा।
  • मैं उसे चुप रहने को कहता रहा, पर उसने एक नहीं सुनी।
  • काम पूरा कर डालो, नहीं तो जुर्माना होगा।
  • वह विद्वान् बनना चाहता था, इसलिए बङे-बङे ग्रंथ पढ़ता था।
  • वक्त निकल जाता है, पर बात याद रह जाती है।

 

  • पोत नष्ट हो गया, पर यात्रियों को बचा लिया गया।
  • इस समय सर्दी है, इसलिए कोट पहन लो।
  • दोष तुम्हारा है, और इसका मुझे विश्वास है।
  • वह स्कूल में पढ़ा और वह स्कूल उसके गाँव के निकट था।
  • उसे तार मिला और वह तुरन्त घर से चल पङा।
  • मैं उनके घर गया तो था पर उनसे भेंट नहीं हुई।

 

  • जल्दी तैयार हो जाओ, नहीं तो बस चली जाएगी।
  • वह घर पर मिलेगा, तो मैं अवश्य जा मिलूँगा।
  • जो जैसा बोएगा वैसा ही काटेगा।
  • वह पुस्तक खो गई थी, परन्तु मुझे मिल प्रसन्नता है।
  • तुम स्वस्थ हो गए, और इसकी मुझे प्रसन्नता है।
  • वह कर डालो, नहीं तो पछताना पङेगा।

 

  • वह मरणासन्न था, इसलिए मैंने उसे क्षमा कर दिया।
  • मैंने पुकारा परन्तु वह चुप रह गया।
  • वह हार गया, परन्तु यह आश्चर्य है।
  • पृथ्वी गोल है और हम इसे प्रमाणित कर सकते है।
  • उसका घर जलकर राख हो गया इसलिए वह कंगाल हो गया।
  • उसका काम बन जाए इसलिए वह किसी से सिफारिश कराने के चक्कर में है।
  • काम समाप्त करो और जाओ।

(3) मिश्रित/मिश्र वाक्य (mishr vakay)

जिन वाक्यों में एक मुख्य या प्रधान वाक्य हो और अन्य आश्रित उपवाक्य हों,

उन्हें मिश्रित वाक्य कहते हैं। इनमें एक मुख्य उद्देश्य और मुख्य विधेय के अलावा एक से अधिक समापिका क्रियाएँ होती हैं,

जैसे- ज्यों ही उसने दवा पी, वह सो गया।

  • यदि परिश्रम करोगे तो, उत्तीर्ण हो जाओगे।
  • मैं जानता हूँ कि तुम्हारे अक्षर अच्छे नहीं बनते।
  • वह जो लङका है छोटा है।
  • यह वही बच्चा है जिसको बैल ने सींग मारा था।
  • जो गरीबों की सहायता करते हैं वे धर्मात्मा होते हैं।
  • वह मुझसे कहता है कि मेरे घर आओ।

 

  • वह जो टोपीवाला बाबू है कहीं जा रहा है।
  • उसने मान लिया कि दोष उसका है।
  • उसने परिश्रम किया ताकि परीक्षा उत्तीर्ण करे।
  • मेरा विचार है कि आज शाम उससे मिला जाए।
  • मैं चाहता हूँ कि तुम्हारे साथ खेलूँ।

 

  • यहाँ जो प्रबन्ध है वह अति त्रुटिपूर्ण है।
  • सूर्य पूर्व से उदय होता है।
  • मुझे बताओ कि तुम्हारी समस्या क्या है।
  • मेरे लिए कहीं जगह नहीं है जहाँ मैं बैठूँ।
  • जब काम खत्म हुआ तब हम सैर करने निकल पङे।
  • यद्यपि उसके पास इतना धन है तथापि वह स्वस्थ नहीं है।
  • वह इस योग्य नहीं है कि सेना में भर्ती हो।

 

  • मैंने एक पक्षी देखा जो घायल था।
  • आशा है कि मुझे पुरस्कार मिला।
  • यदि कोई हिन्दू नहीं है तो वह इस मंदिर में प्रवेश नहीं पा सकता।
  • उसके मौन से प्रमाणित होता है कि वह अपराधी है।
  • उसने वह पुस्तकालय खरीद लिया है जो मेरा था।
  • सम्भावना है कि आज बारिश हो।
  • जब डाक गाङी आ जाएगी तब सवारी गाङी छूटेगी।
  • राजा ने मंत्री को आदेश दिया कि उपस्थित हो जाओ।
  • उसे पूरा विश्वास है कि वह अपने काम में सफल हो जाएगा।
  • उसे डर था कि वह मारा जाएगा।
  • बच्चा जिस कक्षा में है उसमें प्रसन्न है।
  • कक्षा ऐसी जगह नहीं है जहाँ छात्र खेले।
  • जब उसे डाँटा गया तो वह रो पङा।

 

  • यदि आप आज्ञा दे तो मैं जाऊँ।
  • क्योंकि वह संतुष्ट था इसलिए उसने कभी शिकायत नहीं की।
  • जब छह बजें तब लौट आना।
  • मुझे यह अच्छा नहीं लगता कि आहिस्ता बोला जाए।
  • यह सब तब हुआ जब मैं अनुपस्थिति था।
  • जब मैं मरूँ तो मेरा संस्कार गंगाघाट पर किया जाए।
  • यद्यपि इतनी गर्मी है तथापि वह भट्टी के पास काम करता है।
  • जब तक मैं न आऊँ तब तक यहीं बैठे रहना।
  • जब चपरासी ने दो-चार रुपए पा लिये तब वह खुश हो गया।
  • कृप्या बात दें कि गाङी किस समय आती है।
  • जब अतिथि विदा हुए तब हम सोने चले गए।
  • मुझे खुशी है कि उसका भाग्य पलटा है।
  • मुझे संदेह है कि वह ईमानदार है।

 

  • जो तुम्हारे पङौसी हैं वे इस समय तुम्हारी सहायता करने वाले एक मात्र व्यक्ति है।
  • जब उसके पिता की मृत्यु हो गई तब वह दिल्ली छोङकर चला गया।
  • वह अपनी उम्र के तीसवें वर्ष तक अविवाहित था।
  • मैं आपसे प्रार्थना करता हूँ कि मुझे छुट्टी दी जाए।
  • क्या वह कोई भला आदमी है जो यह काम कर सकता है।
  • रावण जो राम का शत्रु था, मारा गया।

 

  • मैंने सुना था कि वह अस्वस्थ था।
  • उत्तर देने का यह जो ढंग है, ठीक नहीं है।
  • वह इस आशा में प्रतीक्षा करता रहा कि मुझसे मुलाकात हो जाएगी।
  • जब तक परीक्षा का दिन नहीं आया था तब तक उसने एक अक्षर नहीं पढ़ा था।
  • जो लोग यह समाचार सुनानेवाले थे उनमें मैं सबसे पहले पहुँचा था।
  • अभी तक उसके छुपने के स्थान का पता नहीं चला।

 

 

  • उसे गर्व है कि वह उच्चवर्गीय परिवार में पैदा हुआ।
  • यदि पूर्ण स्वास्थ्य चाहिए तो शुद्ध आहार-विहार आवश्यक है।
  • अभियुक्त ने स्वीकार कर लिया कि मैंने अपराध किया है।
  • उसे कई ऐसी घटनाएँ याद हैं जो उसकी जवानी में घटित हुई थीं।
  • जो आदमी समझदार है वह अपने भविष्य का ध्यान रखता है।
  • जब क का स्थानांतरण के पश्चात ख ने आचार्य का कार्यभार सम्भाला।
शब्द शक्ति को एक बार जरूर पढ़ें 

ये भी अच्छे से जानें ⇓⇓

ऐसी समास की पोस्ट नही पढ़ी होगी आपने .. जरूर पढ़ें 

साहित्य के शानदार वीडियो यहाँ देखें 

  • vakya ke bhed
  • vakya ke prakar in hindi
  • vakya ke bhed class 9
  • vakya ke bhed in hindi
  • arth ke aadhar par vakya ke bhed exercises
  • vakya ke bhed class 10

 

वाक्य और उसके भेद

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *