तुलसीदास जी के महत्वपूर्ण तथ्य

तुलसीदास की पंक्तियाँ
1: ठुमुक चलत रामचन्द्र बाजत पैजनिया
2: जाके प्रिय न राम विदेही। तजिये ताहि
3: मंगल भवन अमंगल हारी
4: अरथ न धरम न कम रुचि, गति न चाहूँन निरबान
5: अब लौ नसानी अब न नसैहों
6: गिरा अनयन नयन बिनु बानी
7: गोरख जगायो जोग भगति भगायो लगा
8: ढोल गंवार सुद्र पसु नारी
9: केशव कहि न जाय का कहिए
10: पराधीन सपनेहुं सुख नाहीं
11: अब जीवन की है कपि ना कोय
12: परहित सरिस धर्म नहिं भाई
13: पर उपदेश कुसल बहुतेरे
14: भय बिनु होय न प्रीति
15: कवित्त विवेक एक नहिं मोरे
16: गिरा अरथ जल बीचि सम कहियत भिन्न न भिन्न
17: साखी सबदी दोहरा कहि कहनी उपखान
18: खेती न किसान को भिखारी को न भीख
19: मांग के खैबो मसीत के सोइबो
तुलसीदास जी के बारे में महत्वपूर्ण कथन
*तुलसीदास के बारे में विद्वानों के मत*
*१* तुलसी को लोकनायक – हज़ारी
*२* समन्वयक – हज़ारी प्रसाद द्विवेदी
*३* बुद्ध के बाद बड़ा लोकनायक – ग्रियर्सन
*४* भक्तिकाल का सुमेरु – नाभादास
*५* कलिकाल का वाल्मीकि – नाभादास
*६* मानस का हंस – अमृतलाल नागर
*७* जातीय कवि – रामविलास शर्मा
*८* आंनदवन का वृक्ष – मधुसूदन सरस्वती
*९* अकबर से महान् – स्मिथ
*१०* अपने युग का महान् पुरुष – स्मिथ
*११* उत्तर भारत की जनता के ह्रदय मंदिर में विराजमान – शुक्ल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here