आचार्य शुक्ल के कथन आदिकाल

आचार्य शुक्ल के कथन आदिकाल

*आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के महत्वपूर्ण कथन* पार्ट -2 आचार्य शुक्ल के कथन आदिकाल *आदिकाल के सम्बन्ध में* 👉🏼”हिन्दी साहित्य का आदिकाल संवत् 1050 से लेकर संवत् 1375 तक अर्थात महाराज भोज के समय से लेकर हम्मीरदेव के समय के कुछ पीछे तक माना जा सकता है।” 👉🏼”जब तक भाषा बोलचाल Read more…

फ़र्स्ट ग्रेड हिन्दी शिक्षक 2018 भर्ती नोट्स

फ़र्स्ट  ग्रेड हिन्दी कक्षा 11 व  12  नोट्स मित्रो प्रथम श्रेणी  हिन्दी शिक्षक भर्ती कक्षा 11 व  12 की  सम्पूर्ण पीडीएफ़ नोट्स जारी  कोई भी समस्या होने पर व्हाट्सप नंबर (9929735474)पर msg करे टोटल lesson  नोट्स शुल्क 150 रुपए (अगर नेट बैंकिंग की सुविधा नही हो तो मेरे paytm नंबर Read more…

कृष्ण काव्यधारा टेस्ट 2

: परीक्षण विषय – हिंदी कृष्ण काव्य प्रस्तुतकर्ता आलोक कुमार तिवारी (एम ए, जेआरएफ) 1- इनमें से कौन सा ग्रंथ निंबार्काचार्य का का है? 1 आदिबानी 2 सुबोधिनी टीका 3 तत्व दीप निबंध4 इनमें से कोई नहीं ✅ 2 वल्लभाचार्य जी किसके समकालीन थे? 1 औरंगजेब 2 अकबर 3 बाबर✅ Read more…

कामायनी महत्वपूर्ण कथन

कामायनी महत्वपूर्ण कथन

*कामायनी महाकाव्य के बारे में महत्तवपूर्ण कथन* ⚛कामायनी महाकाव्य -जय शंकर प्रसाद ⚛सर्ग – 15 ⚛मुख्य छंद – तोटक ⚛कामायनी पर प्रसाद को मंगलाप्रसाद पारितोषिक पुरस्कार मिला है ⚛काम गोत्र में जन्म लेने के कारण श्रद्धा को कामायनी कहा गया है। ⚛प्रसाद ने कामायनी में आदि मानव मनु की कथा Read more…

error: कॉपी करना मना है