Author: केवल कृष्ण घोड़ेला

हिन्दी जीवनी || hindi sahitya ka itihaas || हिन्दी साहित्य

हिन्दी जीवनी(hindi jeevni) आज के विषय हिन्दी जीवनी में हिन्दी की प्रमुख जीवनियाँ एवं जीवनीकार का संकलन किया गया है जो परीक्षा के लिए उपयोगी साबित होंगे | आप अच्छे से इसे तैयार करें  लेखक  वर्ष जीवनी गोपाल शर्मा शास्त्री 1881   दयानन्द दिग्विजय बाबू राधाकृष्णदास  1904 भारतेन्दु बाबू हरिश्चन्द्र का जीवन चरित्र शिवनन्दन  1905

वाच्य का अर्थ || वाच्य के भेद || Vachya

वाच्य (Vachya) वाच्य से यह पता चलता है कि वाक्य में कर्ता , कर्म और भाव में से किसकी प्रधानता है। इससे यह स्पष्ट होता है कि वाक्य में प्रयुक्त क्रिया के लिंग, वचन तथा पुरुष कर्ता , कर्म या भाव में से किसके अनुसार है। वाच्य की परिभाषा(vachya ki pribhasha) वाच्य क्रिया के उस

hindi sahitya || हिन्दी साहित्य प्रमुख पत्र-पत्रिकाएँ || hindi literature

हिन्दी साहित्य प्रमुख पत्र-पत्रिकाएँ (hindi sahity pramukh patr-patrikaen)   इस पोस्ट में हिंदी साहित्य की प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं को बताया गया है जो हर परीक्षा में पूछा जाता है   पत्र-पत्रिकाएँ विवरण 1. बंगाल गजट भारत का प्रथम समाचारपत्र (अंग्रेजी में) 2. उदंत मार्तण्ड साप्ताहिक, प्रथम हिंदी पत्र, कलकत्ते से प्रकाशित (30 मई, 1826, संपादक पं.

हिन्दी आलोचना || hindi alochana

हिंदी आलोचना(hindi alochana) आज की पोस्ट में  हिन्दी साहित्य के महत्वपूर्ण टॉपिक हिन्दी आलोचना विधा को लेकर है जिसमे महत्वपूर्ण आलोचनाओ को संकलित किया गया है   कृति रचनाकार 1. नाटक भारतेंदु 2. शिवसिंह सरोज  शिवसिंह सेंगर 3. बिहारी सतसई की भूमिका  पद्मसिंह शर्मा 4. देव और बिहारी  कृष्ण बिहारी मिश्र 5. नवरस, सिद्धांत और अध्ययन,

hindi sahitya || छायावाद युग प्रमुख रचनाएँ || chaayavaad yug pramukh rachanaen

इस पोस्ट में (hindi sahitya)आधुनिक काल की महत्वपूर्ण विषयवस्तु छायावाद युग  की प्रमुख रचनाओ को एक साथ दिया गया है ताकि आप एक साथ अभ्यास कर पाएँ छायावाद युग प्रमुख रचनाएँ(chaayavaad yug pramukh rachanaen)hindi sahitya   रचनाएँ लेखक 1. हिमकिरीटिनी, हिमतंरगिणी, माता माखनलाल चतुर्वेदी 2. मौर्य विजय, बापू, दूर्वादल, पाथेय, मृण्मयी सियारामशरण गुप्त 3. कुंकुम,

hindi sahitya || हिंदी साहित्य की प्रमुख पंक्तियाँ|| hindi literature

हिंदी साहित्य की प्रमुख पंक्तियाँ(hindi sahitya kee pramukh panktiyaan) हिंदी मित्रो आज की  पोस्ट में हिंदी साहित्य(hindi sahitya) की महत्वपूर्ण पंक्तियाँ शामिल की गयी है इसमें से हर परीक्षा में एक दो पंक्तियाँ आपको जरूर मिलेगी। hindi sahitya || हिंदी साहित्य की प्रमुख पंक्तियाँ|| hindi literature   1. मो सम कौन कुटिल खलकामी सूरदास 2.

दूरस्थ शिक्षण विधि || teaching methods in hindi ||hindi shikshn vidhiyan

दूरस्थ शिक्षण विधि(doorasth shikshan vidhi)|| teaching methods in hindi दूरस्थ शिक्षण का अर्थ है- घर बैठे शिक्षण प्राप्त करना। इस विधि में अध्यापक बालक के सम्मुख ना होकर एक पाठ्यक्रम के रूप में होता है। बालक द्वारा सीखे हुये ज्ञान का मूल्यांकन अध्यापक द्वारा किया जाता है। बालक अपने घर पर ही रहकर स्वाध्याय द्वारा
error: कॉपी करना मना है