हिन्दी कहानी का विकास || hindi kahani ka vikaas

दोस्तो आज की पोस्ट में हम हिन्दी कहानी विकास (hindi kahani ka vikaas) क्रम को अच्छे से पढ़ेंगे 

हिन्दी कहानी का विकास

 

    ’कहानी’ का प्राचीन नाम संस्कृत में ’गल्प’ या ’आख्यायिका’ मिलता है। आधुनिक हिन्दी कविता का जन्म वर्तमान युग की आवश्यकताओं के कारण हुआ। कहानी को पश्चिम में ’शार्ट स्टोरी’ कहा जाता हैं। पाश्चात्य साहित्य में कहानी-कला का उद्भव सर्वप्रथम अमेरिका में एडलर एलन पो (1809-49 ई.) द्वारा हुआ।

    उन्होंने कहानी की परिभाषा देते हुए कहा है कि ’’छोटी कहानी एक ऐसा आख्यान है, जो इतना छोटा है कि एक बैठक में पढ़ा जा सके और जो पाठक पर एक ही प्रभाव उत्पन्न करने के उद्देश्य से लिखा गया हो।’

   मुंशी प्रेमचन्द कहानी पर विचार करते हुए कहते हैं कि ’’कहानी (गल्प) एक रचना है, जिसमें जीवन के किसी एक अंग या मनोविज्ञान को प्रदर्शित करना ही लेखक का उद्देश्य रहता है। उसके चरित्र, उसकी शैली तथा कथा-विन्यास सब उसी एक भाव को पुष्ट करते है।’’

   हिन्दी कहानी का उद्भव द्विवेदी युग में ’सरस्वती पत्रिका (1900 ई.) के प्रकाशन से प्रारम्भ होता है।

हिन्दी की प्रथम कहानी और प्रणेता

प्रणेता                               कहानी                          वर्ष                    लेखक
रामचंद्र शुक्ल                    इंदुमती                          1900               किशोरीलाल गोस्वामी
डाॅ. बच्चन सिंह                 प्रणयिनी परिणय                 1887               किशोरीलाल गोस्वामी
देवी प्रसाद वर्मा                 एक टोकरी भर मिट्टी            1901                माधवराव सप्रे
डाॅ. लक्ष्मीनारायण लाल     ग्यारह वर्ष का समय                1903                आचार्य रामचंद्र शुक्ल
                                         (शिल्पी की दृष्टि से)

⇒ विद्वानों ने ’इंदुमती’ को शिक्सपीयर के ’टेम्पेस्ट’ की छायानुवाद कहकर उसे मौलिक कहानी के दायरे से बाहर कर दिया।

आचार्य शुक्ल ने लिखा है –

’इंदुमती किसी बंग्ला कहानी की छाया नहीं है तो हिन्दी की यही मौलिक कहानी ठहरती है। इसके उपरान्त ’ग्यारह वर्ष का समय’ फिर ’दुलाईवाली’ का नंबर आता है।

⇒ राजेन्द्र बाला घोष ’बंग महिला’ को हिन्दी की प्रथम कहानी लेखिका माना जाता है। ’दुलाईवाली’ उनकी प्रमुख कहानी है।

⇒ बंग महिला की प्रमुख कहानियाँ –

  • चंद्रदेव से मेरी बातें (1904)
  • कुंभ में छोटी बहू (1906)
  • दुलाई वाली (1907)
  • दलिया (1909 ई.)

सरस्वती पत्रिका में प्रकाशित प्रमुख कहानियाँ⇓⇓

               कहानी                               प्रकाशन वर्ष                         कहानीकार

  • इन्दुमती                            1900 ई.                               किशोरीलाल गोस्वामी
  • प्लेग की चुङैल                    1902 ई.                               लाला भगवानदीन
  • ग्यारह वर्ष का समय              1903 ई.                               आचार्य रामचंद्र शुक्ल
  • एक के दो दो                      1906 ई.                               लाला पार्वती नंदन
  • दुलाई वाली                         1907 ई.                               बंग महिला
  • राखी बंध भाई                      1909 ई.                               वृंदावनलाल वर्मा
  • रक्षाबंधन                                  –                                  विश्वंभर नाथ शर्मा ’कौशिक’
  • सौत                                 1915 ई.                               प्रेमचंद
  • पंच परमेश्वर                         1916 ई.                                प्रेमचंद
  • उसने कहा था                      1915 ई.                               चंदधर शर्मा ’गुलेरी’

हिन्दी कहानी के समूचे विकास-क्रम को निम्नलिखित शीर्षकों में विभाजित किया जा सकता हैं –

(1) प्रेमचंद पूर्व हिन्दी कहानी

(2) प्रेमचंदयुगीन हिन्दी कहानी

(3) प्रेमचंदोत्तर हिन्दी कहानी

(4) समकालीन हिन्दी कहानी

हिंदी की प्रथम कहानी कौनसी है  ?

  • नगेन्द्र के  अनुसार   ⇒सौत
  • गणपतिचंद्र गुप्त के अनुसार  ⇒ पंच परमेश्वर
  • रामचंद्र शुक्ल ने किशोरी लाल गोस्वामी की इंदुमती(1900) को पहली कहानी मानी है  
  • बच्चन सिंह ने किशोरी लाल गोस्वामी की प्रणयिनी परिणय(1887) को पहली कहानी मानी है 
  • राजेंद्र बडवालिया ने रेवरेंड जे न्यूटन की जमीदार का दृष्टांत(1871) को पहली कहानी मानी है 
  • देवी प्रसाद वर्मा ने माधवराव सप्रे की एक टोकरी भर मिट्टी (1901) को पहली कहानी मानी है 

प्रेमचंद पूर्व हिन्दी कहानी

सन् 1900 ई. से पूर्व कहानियों के नाम पर जो संग्रह प्राप्त होते है, वे निम्नलिखित है –

रचनाकार                                            रचना
राजा शिवप्रसाद सितारे ’हिन्द’              वामा मनोरंजन (1886 ई.)
चण्डी प्रसाद सिंह                                  हास्य रत्न (1886 ई.)
किशोरी लाल गोस्वामी                         प्रणयिनी परिणय (1887 ई.)
अंबिकादत्त व्यास                                कथा-कुसुम कलिका (1888 ई.)

सन् 1900 ई. के पश्चात हिन्दी कहानी

कहानीकार                                        कहानी

किशोरीलाल गोस्वामी                             1. इंदुमती (1900)  2. गुलबहार (1900)
केशवप्रसाद सिंह                                 1. चंद्रलोक की यात्रा (1900) 2. आपत्तियों का पहाङ (1900)
माधव प्रसाद मिश्र                                1. पुरोहित का आत्म त्याग (1900) 2. मन की चंचलता (1900)
लाला भगवानदीन                                1. प्लेग की चुडैल (1902 ई.)
रामचंद्र शुक्ल                                    1. ग्यारह वर्ष का समय (1903 ई.)
गिरिजादत्त वाजपेयी                             1. पति का पवित्र प्रेम (1903 ई.) 2. पंडित और पंडितानी (1903)
कार्तिक प्रसाद खत्री                             1. दामोदर राव की आत्मकहानी
सूर्यनारायण दीक्षित                              1. चन्द्रहास का अद्भुत आख्यान (1906)
वेंकटेश नारायण                                 1. एक असरफी की आत्मकथा (1906)
बंग महिला                                       1. दुलाई वाली (1907)
वृन्दावन लाल वर्मा                               1. राखीबंध भाई (1909) 2. तातर और एक वीर राजपूत (1910)
राधिका रमण प्रसाद सिंह                       1. कानों में कंगना (1913) 2. बिजली
विश्वम्भर नाथ शर्मा                              1. रक्षाबंधन (1913)

प्रेमचंदयुगीन हिन्दी कहानी

           इस युग में कहानियों को जीवन की नयी समस्याओं से जोङने का प्रयास सर्वप्रथम कथा सम्राट प्रेमचंद ने ही किया। उपन्यास और कहानियाँ दोनों विधाओं में प्रेमचंद आदर्श और यथार्थ की ओर अग्रसर होते है। इसे उनकी पहली कहानी पंच परमेश्वर (1917) से आखिरी कहानी ’कफन’ (1936) तक देखा जा सकता है।

⇒ प्रेमचंद का मूल नाम नबावराय था। उर्दू में वे इसी नाम से लिखते थे।

⇒ नबावराय के प्रथम कहानी संग्रह ’सोजे वतन’ (1908) को ब्रिटिश सरकार ने जब्त कर लिया था। ’सोजे वतन’ पाँच कहानियों का संग्रह था जो उर्दू में लिखा गया था।

⇒ प्रेमचंद की प्रथम कहानी ’पंच परमेश्वर’ (1917) तथा अन्तिम कहानी कफन (1936) है।

प्रेमचंद के प्रमुख कहानी-संग्रह

1. सप्त सरोज (1917)          7. प्रेम प्रतिमा (1926)
2. नवनिधि (1917)               8. प्रेम प्रतिज्ञा (1929) 
3. प्रेम पूर्णिमा (1918)           9. प्रेम चतुर्थी (1929)
4. प्रेम पच्चीसी (1923)         10. प्रेम कुंज (1930)
5. प्रेम प्रसून (1924)              11. सप्त सुमन (1930)
6. प्रेम द्वादश (1926)            12. कफ़न (1936)

प्रेमचंद की प्रमुख कहानियाँ 

1. नमक का दरोगा (1913)        11. अलग्योझा (1929)
2. सज्जनता का दण्ड (1916)    12. पूस की रात (1930)
3. ईश्वरीय न्याय (1917)          13. समर यात्रा (1930)
4. दुर्गा का मंदिर (1917)           14. सद्गति (1930)
5. बूढ़ी काकी (1920)                 15. दो बैलों की कथा (1931)
6. सवा सेर गेहूँ (1924)              16. होली का उपहार (1931)
7. शतरंज के खिलाङी (1924)     17. ठाकुर का कुँआ (1932)
8. मुक्ति मार्ग (1924)                18. ईदगाह (1933)
9. मुक्ति धन (1924)                  19. बङे भाई साहब (1934)
10. सौभाग्य के कोङे (1924)        20. कफ़न (1936)

⇒ प्रेमचंद ने 300 कहानियाँ लिखी जो ’मानसरोवर’ शीर्षक से आठ भागों में प्रकाशित है।
⇒ चन्द्रधर शर्मा ’गुलेरी’
⇒ गुलेरी जी विश्व के उन चुनिंदा कहानीकारों में से है जिन्होंने केवल तीन कहानी लिखकर हिन्दी कहानिकारों में अपना महत्त्वपूर्ण स्थान बनाया।

गुलेरी जी की प्रमुख कहानियाँ

1. सुखमय जीवन           1911         भारत मित्र में प्रकाशित
2. बुद्धू का कांटा              1914                         –
3. उसने कहा था             1915         सरस्वती में प्रकाशित

⇒ ’उसने कहा था’ कहानी गुलेरी जी की सर्वश्रेष्ठ कहानी है। यह कहानी पूर्वदीप्ति (फ्लैश बैक) शैली में लिखी गई है।
⇒ ’उसने कहा था’ प्रथम विश्व युद्ध की पृष्ठभूमि पर लिखी गई प्रेम-संवेदना की कहानी हैं।
जयशंकर प्रसाद
⇒ जयशंकर प्रसाद की प्रथम कहानी ’ग्राम’ 1911 ई. में इन्दु पत्रिका में प्रकाशित हुई तथा अंतिम कहानी ’सालवती’ को माना जाता है।
⇒ प्रसाद का प्रथम कहानी संग्रह ’छाया’ (1912) तथा अंतिम कहानी संग्रह इंद्रजाल (1936) है।

प्रसाद के प्रमुख कहानी संग्रह

  • छाया (1912)
  • प्रतिध्वनि (1926)
  • आकाशदीप (1928)
  • आँधी (1931)
  • इन्द्रजाल (1936)

प्रसाद की प्रमुख कहानियाँ

1. आग                                     10. बिसाती
2. चन्दा                                    11. सालवती
3. गुलाम                                  12. मधुआ
4. चित्तौङ उद्धार                       13. पुरस्कार
5. पत्थर की पुकार                    14. गुण्डा
6. उस पार का योगी                  15. छोटा जादूगर
7. देवदासी                                16. स्वर्ग के खण्डर
8. ममता                                  17. हिमालय का पथिक
9. घीसू                                     18. समुद्र सन्तरण

अन्य प्रमुख कहानीकार एवं कहानी संग्रह

कहानीकार                              कहानी संग्रह

वृन्दावनलाल वर्मा                   1. शरणागत (1950) 2. कलाकार का दण्ड (1950)

राधिकारमण प्रसाद                  1. कुसुमांजलि 2. गाँधी टोपी (1938) 3. सावनी समाँ (1938)
                                                प्रमुख कहानी – 1. कानों में कंगना (1913) 2. बिजली

चतुरसेन शास्त्री                       1. रजकण 2. बाहर-भीतर 3. दुखवा मैं कासो कहूँ मोर सजनी 4. सोया हुआ शहर 5. कहानी खत्म हो गई 6. स्त्रियों का ओज 7. सिंहगढ़ विजय
                                                प्रमुख कहानियाँ – अंबपालिका, प्रबुद्ध, भिक्षुराज, हल्दी घाटी में, बाणवधु

विश्वंभरनाथ शर्मा                    1. गल्प मंदिर (1919) 2. चित्रशाला (दो भागों में प्रथम -1924 द्वितीय 1929) 3. कल्लोल (1939) 4. प्रेम प्रतिमा 5. मणिमाला
राहुल सांकृत्यायन                    1. सतमी के बच्चे (1935) 2. वोल्गा से गंगा (1944)

शिवपूजन सहाय                       1. महिला महत्त्व (1922) 2. कहानी का प्लाट (1928)

पदुमलाल पुन्नालाल                 1. अंजलि 2. झलमला (1934) 3. कनक रेखा (1961)

बद्रीनाथ भट्ट ’सुदर्शन’                1. सुप्रभात (1923) 2. परिवर्तन (1926) 3. सुदर्शन सुधा (1926) 4.

                                                 तीर्थयात्रा (1927) 5. सुदर्शन सुमन (1933) 6. पनघट (1939) 7. नगीने (1947) 8. झरोखे (1939)
                                                 प्रमुख कहानियाँ – हार की जीत, दो मित्र, कवि की स्त्री, पत्थरों का सौदागर, कमल की बेटी, तीर्थयात्रा आदि।

चण्डी प्रसाद ’हृदयेश’                 1. नंदन निकंुज (1923) 2. वनमाला

भगवती प्रसाद वाजपेयी            1. मधुपर्क (1929) 2. दीपमालिका (1930) 3. पुष्पकारिणी (1936) 4. हिलोर (1938) 5. खाली बोतल 6. मेरे सपने 7. ज्वार भाटा (1940) 8. कला की दृष्टि (1942) 9. उपहार (1942) 10. अंगारे (1944) 11. उतार-चढ़ाव (1950)

बेचन शर्मा ’उग्र’                        1. चाकलेट (1924) 2. शैतान मण्डली (1924) 3. चिनगरियाँ (1925) 4. इन्द्रधनुष 5. घोङे की कहानी 6. बलात्कार (1927) 7. निर्लज्जा (1929) 8. दोजख की आग (1929) 9. क्रांतिकारी कहानियाँ (1939) 10. उग्र का हास्य (1939) 11. गल्पांजलि 12. रेशमी (1942) पंजाब की महारानी (1943) जब सारा आलम सोता है (1951)

चंद्रगुप्त विद्यालंकार                1. चंद्रकला (1929)

प्रमुख तथ्य

⇒ ’सुदर्शन’ की कहानियों में सुधारवादी दृष्टिकोण और अंतद्र्वद्व की प्रधानता है।
⇒ ’पाण्डेय बेचन शर्मा’ ’उग्र’ की कहानियों में अनाचार एवं कुरीतियों के प्रति आक्रोश दिखाई देता है।
⇒ नंददुलारे वाजपेयी ने ’उग्र’ को हिन्दी का प्रथम राजनीतिक कहानीकार माना है।
⇒ ’उग्र’ की ’चिन्गारियाँ (1925) कहानी-संग्रह अपने क्रांतिकारी विचारों के कारण ब्रिटिश सरकार द्वारा जब्त कर लिया गया था।
⇒ निराला की ’सखी’ कहानी 1925 ई. में ’चतुरी चमार’ के नाम से प्रकाशित हुई।

प्रेमचन्दोत्तर हिन्दी कहानी

प्रेमचंद-युग के अंतिम चरण के सर्वाधिक समर्थ कहानिकारों में जैनेन्द्र कुमार, इलाचन्द जोशी, यशपाल, अज्ञेय और ’अश्क’ महत्त्वपूर्ण है।

⇒ जैनेन्द्र की कहानियों में चरित्र वैशिष्ट्य, मानसिक द्वन्द्व, स्त्री-पुरुष के संबंधों को लेकर सूक्ष्म एवं गहन स्तरों का स्पर्श आदि का चित्रण मिलता है।
⇒ जैनेन्द्र ने कहानियों के माध्यम से पहली बार हिन्दी साहित्य में ’व्यक्ति’ को स्थान मिला।
⇒ जैनेन्द्र जी बाह्य जीवन-यथार्थ को महत्त्व नहीं देते। वे मन स्थिति में ही परिस्थिति को भी संश्लिष्ट मानते है।
प्रमुख कहानियाँ – 1. स्पद्र्धा, 2. पत्नी, 3. एक कैदी, 4. गदर के बाद, 5. बाहुबली, 6. तत्सम् 7. लाल सरोवर 8. जान्ह्वी

यशपाल (1903-1976 ई.)

⇒ यशपाल जी को माक्र्सवादी दृष्टिकोण से सामाजिक यथार्थ को प्रस्तुत करते हैं।

प्रमुख कहानी-संग्रह

1. पिंजरे की उङान (1939) ई. 2. ज्ञानदान (1943) 3. अभिशप्त (1943) 4. तर्क का तूफान (1944) 5. भस्मावृत चिनगारी (1946) 6. वो दुनिया (1948) 7. फूलों का कुर्ता (1949 ई.) 8. धर्मयुद्ध (1950 ई.) 9. उत्तराधिकारी (1951) 10. चित्र का शीर्षक (1951 ई.) 11. उत्तमी की माँ (1955) 12. तुमने क्यों कहा मैं सुन्दर हूँ (1954) 13. सच बोलने की भूल (1962) 14. खच्चर और आदमी (1965) 15. भूख के तीन दिन (1968 ई.) आदि।

प्रमुख कहानियाँ

(1) साग (2) मनु की लगाम (3) धर्मरक्षा (4) ज्ञानदान (5) प्रतिष्ठा का बोझ (6) दूसरी नाक आदि
इलाचन्द जोशी (1902-1982 ई.)
⇒ इलाचन्द जोशी जी कथा-साहित्य में मनोविश्लेषण की एक विशिष्ट धारा के प्रवर्तक के रूप में प्रसिद्ध है।
⇒ जोशी जी ने अपने कहानियों में दमित कामवासना, तज्जनित मानसिक विकृति, एवं दमित काम-ग्रन्थि के आधार को स्पष्ट करते हुए व्यक्ति के मानसिक उन्नयन पर बल देते है।

जोशी जी की प्रमुख कहानी-संग्रह 

1. धूपरेखा (1938 ई.) 2. दीवाली और होली (1942 ई.) 3. रोमांटिक छाया (1943) 4. आहुति (1945 ई.) 5. खण्डहर की आत्माएँ (1948 ई.) 6. डायरी के नीरस पृष्ठ (1951 ई.) 7. कंटीले फूल लजीले कांटे (1957 ई.) आदि।

सच्चिदानन्द हीरानन्द वात्साययन ’अज्ञेय’ (1911-1987 ई.)

⇒ ’अज्ञेय’ वैज्ञानिक यथार्थ में विश्वास करने के कारण विविध स्तरों पर व्यक्ति को देखते परखते है।
⇒ ’अज्ञेय’ ने बदलते हुए संदर्भों में नये नैतिक और आध्यात्मिक मूल्यों को प्रतिष्ठित करने की चेष्टा की।
⇒ ’अज्ञेय’ की दृष्टि में नैतिक और सामाजिक मूल्यों का निर्णायक ’व्यक्ति’ ही है।

अज्ञेय के प्रमुख कहानी-संग्रह –

1. विपथगा (1937) 2. परंपरा (1940) 3. अमरवल्लरी (1945) 4. कोठरी की बात (1945) 5. शरणार्थी (1948) 6. जयदोल (1951) 7. ये तेरे प्रतिरूप (1961)
प्रमुख कहानियाँ -1. होलीबोन की बत्तखें 2. मेजर चैधरी की वापसी 3. कडियाँ 4. अमरवल्लरी 5. मैना 6. सिगनेलर 7. रोज आदि

उपेन्द्रनाथ ’अश्क’ (1910-1996 ई.)

⇒ ’अश्क’ प्रारंभ से ही यथार्थवादी के कलाकार रहे है। उन्हांेने निम्न मध्यवर्ग के जीवन को अपना कथा-विषय बनाया।

प्रमुख कहानी-संग्रह –

1. पिंजरा (1944) 2. अंकुर (1945) 3. छीटें (1949) 4. बैंगन का पौधा (1954) 5. सत्तर श्रेष्ठ कहानियाँ 6. पलंग (1961) 7. आकाशचारी (1966)

प्रमुख कहानियाँ –

1. अंकुर 2. नासूर 3. डाची 4. पिंजरा 5. गोखरू आदि।

अन्य प्रमुख कहानीकार एवं कहानी-संग्रह

कहानीकार                               कहानी-संग्रह
विष्णु प्रभाकर                         1. आदि और अंत (1945) 2. रहमान का बेटा (1947) 3. जिन्दगी के थपेङें (1952) 4. धरती अब भी घूम रही है (1970) 5. साँचे और कला (1962) 6. पुल टूटने से पहले (1977) 7. मेरा वतन (1980) 8. खिलौने (1981) 9. एक और कुुंती (1985) 10. जिन्दगी एक रिहर्सल (1981) 11. आसमान के नीचे (1989) 12. कफ्र्यू और आदमी (1994) 13. आखिर क्यों (1998) 14. मैं नारी हूँ (2001) 15. जीवन का एक और नाम (2002) 16. ईश्वर का चेहरा (2003)

अमृतलाल नागर                     1. एक दिन हजार अफसाने (1986)

अमृतराय                                1. जीवन के पहलू (1947) 2. शतिरंगे कफ़न (1948) 3. इतिहास

रांगेय राघव                            1. साम्राज्य का वैभव (1947) 2. समुद्र के फेन (1947) 3. देवदासी (1947) 4. जीवन के दाने (1949) 5. अधूरी मूरत (1949) 6. अंगारे न बुझे (1951) 7. इंसान पैदा हुआ (1951)

समकालीन कहानी (नयी कहानी)

⇒ सन् 1960 ई. से ’नयी कहानियाँ’ नामक पत्रिका श्री भैरवप्रसाद गुप्त के संपादकत्व में दिल्ली से प्रकाशित होने लगी।
⇒ ’नयी कहानी’ को प्रतिष्ठित करने का श्रेय मोहन राकेश, राजेन्द्र यादव, कमलेश्वर को है
⇒ नामवर सिंह ने ’परिन्दे’ को हिन्दी की पहली नयी कहानी माना हैं
⇒ ’नयी कहानी’ की प्रमुख प्रवृत्तियाँ

1. जटिल यथार्थ की व्यापक स्वीकृति     2. आधुनिकता बोध
3. व्यक्ति की प्रतिष्ठा                            4. मध्यवर्गीय जीवन चेतना
5. छिछली भावुकता का अभाव               6. सांकेतिकता

समकालीन कहानीकार एवं कहानी-संग्रह

भीष्म साहनी (1915-2003)

⇒ भीष्म साहनी प्रगतिशील जीवन दृष्टि के लिए प्रख्यात हैं
⇒ सत्ता और व्यवस्था के खोखलेपन को साहनी जी ने सहजता और निर्भिकता से उधेङा है।
⇒ वे यथार्थ के कुरूप चेहरे के भीतर निहित मानवीय मूल्यांे के सौन्दर्य को रेखांकित करने में दक्ष है।

प्रमुख कहानियाँ – 1. चीफ की दावत, 2. अमृतसर आ गया, 3. त्रास, 4. ओ हरामजादे 5. वाङ्चू

मुक्तिबोध

⇒ कविताओं की भाँति अपनी कहानियों में भी मुक्तिबोध ने फंतासी शिल्प का प्रयोग किया है।
प्रमुख कहानियाँ – 1. नयी जिन्दगी 2. काठ का सपना 3. जलना 4. पक्षी और दीमक 5. विपात्र 6. क्लाड ईथरली आदि।
⇒ ’क्लाॅड ईथरली’ कहानी में मुक्तिबोध ने अणु युद्ध का विरोध करने वाली आत्मा की आवाज को प्रस्तुत किया है और पूरी कहानी को अवचेतन के अंधेरे तहखाने में पङी हुई आत्मा के विद्रोह की कहानी बना दिया है।

भैरव प्रसाद गुप्त (1918-1995 ई.)

⇒ गुप्त जी के संपादकत्व में ’कहानी नव वर्षांक-1956’ प्रकाशित हुआ था।
⇒ गुप्त जी माक्र्सवादी जीवन दृष्टि के प्रतिबद्ध लेखक है। उन्हांेने अपनी कहानियों में समाज के दुर्बल ओर शोषित वर्ग की समस्याओं का चित्रण किया है।

प्रमुख कहानी-संग्रह
1. मुहब्बत की राहें (1945) 2. फरिश्ता (1946) 3. बिगङे हुए दिमाग (1948) 4. इंसान (1950) 5. सितार के तार (1951) 6. बलिदान की कहानियाँ (1951) 7. मंजिल (1951) 8. महफिल (1958) 9. सपने का अंत (1961) 10. आँखों का सवाल (1965) 11. मंगली की टिकुली (1982) 12. आप क्या कर रहे हैं (1983)

हरिशंकर परसाई (1924-1995 ई.)

(1) हँसते है रोते है (2) जैसे उनके दिन फिरे (3) भोलाराम का जीव

अमरकांत (1925-2013 ई.)

⇒ अमरकांत मुख्य रूप से निम्न मध्यवर्ग के जीवन संदर्भों से अपनी कहानियों की सामग्री ली है।

प्रमुख कहानियाँ – 1. जिन्दगी और जोंक 2. दोपहर का भोजन 3. डिप्टी कल्क्टरी 4. लोक परलोक

मोहन राकेश (1925-1972 ई.)

⇒ मोहन राकेश ’नयी कहानी’ के प्रवर्तकों में से एक है।
⇒ मोहन राकेश ने संबंधी की यंत्रणा, महानगरीय जीवन की यांत्रिकता और उसके दबाव से व्यक्ति के अकेले पङते जाने की मानसिकता का चित्रण, व्यवस्था के खोखलेपन पर प्रहार और विभाजन की त्रासदी का चित्रण किया है।

प्रमुख कहानियाँ – मलबे का मालिक, आद्र्रा, मिस पाल, सेफ्टी पिन

राजेन्द्र यादव (1929-2013 ई.)

⇒ राजेन्द्र यादव ’नयी कहानी’ के प्रवर्तकों में है।
⇒ राजेन्द्र यादव ने अपनी कहानियों में मध्यवर्ग के जीवन में बनते बिगङते जुङते-टूटते रिश्तों और उनसे उत्पन्न तनाव को महत्त्व दिया हैं।

प्रमुख कहानियाँ – अपने पार, अनुपस्थिति संबोधन, मेहमान

कमलेश्वर (1932-2007)

⇒ कमलेश्वर ’नयी कहानी’ के पुरोधाओं में से एक है।
⇒ 1972 ई. कमलेश्वर ने ’समांतर कहानी’ आन्दोलन चलाया।

प्रमुख कहानियाँ- 1. राजा निरबसिया 2. खोई हुई दिशाएँ 3. मांस का दरिया 4. जार्ज पंचम की नाक 5. अपना एकांत 6. मानसरोवर के हंस 7. इतने अच्छे दिन 8. नीली झील 9. एक अश्लील कहानी 10. देवी की माँ

⇒ ’नयी कहानी’ के व्रती लेखकों-मोहन राकेश, राजेन्द्र यादव, कमलेश्वर में कमलेश्वर ही ऐसे है, जिन्हांेने सामाजिक विसंगतियों, टूटते हुए जीवन-मूल्यों, बढ़ते हुए भ्रष्टाचार और व्यक्ति के अमानवीकरण को वाणी देने का निरंतर प्रयत्न किया है।

धर्मवीर भारती (1926-1997)

धर्मवीर भारती आधुनिकता बोध के सूत्रों से बौद्धिक स्तर पर बखूबी परिचित है, किन्तु संवेदना के स्तर पर रोमानी संस्कारों से मुक्त नहीं हो सकें। उनकी कहानियों में निम्नमध्यवर्गीय जीवन की मानसिकता का अच्छा चित्रण मिलता हैै।

कहानी-संग्रह –

1. मुर्दो का गांव (1946) 2. स्वर्ग और पृथ्वी (1949) 3. चाँद और टूटे हुए लोग (1955) 4. बंद गली का आखिरी मकान (1969)
प्रमुख कहानियाँ – 1. गुलकी बन्नो 2. सावित्री नं.-2

लक्ष्मीनारायण लाल (1927-1987)

इनकी कहानियाँ में अवध के गाँव, पक्षी, पशु, पेङ, नदियाँ, खेत-खलिहान, त्यौहार, गीत आदि भी सजीव होकर साकार हो गये है।

कहानी संग्रह –

1. सूने आँगन रस बरसै (1960) 2. नये स्वर नये रेखाएँ (1962) 3. एक बूँद जल (1964) 4. एक और कहानी (1964) 5. डाकू आये थे (1974)

निर्मल वर्मा (1929-2005)

⇒ निर्मल वर्मा के पहले कहानी संग्रह ’परिन्दे’ (1960 ई.) को डाॅ. नामवर सिंह ने ’नयी कहानी’ की पहली कृति माना है।
⇒ ’परिन्दे’ संग्रह की समीक्षा करते हुए नामवर सिंह ने कहा था –
’’स्वतंत्रता या मुक्ति का प्रश्न, जो समकालीन विश्व का मुख्य प्रश्न बन चला है, निर्मल वर्मा की कहानियों में अलग-अलग कोण से उठाया गया है।’’

फणीश्वर नाथ रेणु (1921-1977)

रेणु ’नयी कहानी’ के दौर में ग्राम-अंचल की विशिष्ट, ताजी और जीवंत अनुभूति लेकर आने वाले रचनाकारों में अन्यतम रहे है।

प्रमुख कहानी – 1. तीसरी कलम उर्फ मारे गये गुलफाम, 2. रसप्रिया, 3. ठुमरी, 4. अग्निखोर, 5. आदिम रात्रि की महक आदि
अन्य प्रमुख कहानीकार एवं कहानी-संग्रह

शिवप्रसाद सिंह (1929-1998)

1. आर पार की माला (1955) 2. कर्मनाशा की हार (1958) 3. इन्हें भी इंतजार है (1961) 4. मुर्दा सराय (1966) 5. अंधेरा हँसता है (1975) 6. भेङिया (1977)

कृष्ण बलदेव वैद (1927)

1. बीच का दरवाजा (1963) 2. मेरा दुश्मन (1966) 3. दूसरे किनारे से (1970) 4. लापता (1974) 5. उसका बयान (1974) 6. वह और मैं (1978) 7. लीला और अन्य कहानियाँ (1993 ई.) 8. पिता की परछाईयाँ (1997) 9. बदचलन बीबीयों का द्वीप (2000) (10) बोधिसत्व की बीबी (2002)

प्रमुख कहानियों –1. अगर मैं आज 2. उङान 3. जामुन की गुठली 4. एक बदसूरत गली 5. टुकङे 6. खामोशी 7. भाई की महिमा 8. एक था विमल 9. कुतुबमीनार छोटा सा 10. शैडोज आदि।

मारकण्डेय (1932-2010)

1. पान फूल (1954 ई.) 2. पत्थर और परछाइयाँ (1956) 3. महुए का पेङ (1957) 4. हंसा जाई अकेला (1957 ई.) 5. भूदान (1958) 6. माही (1962) 7. बीच के लोग (1975 ई.)

रघुवीर सहाय (1929-1990)

1. सीढ़ियों पर धूप में (1960) 2. रास्ता इधर से है (1972) 3. जो आदमी हम बना रहे है (1982 ई.)

प्रमुख कहानियाँ- 1. सेब, 2. मेरे और नंगी औरत के बीच, 3. मुठभेङ, 4. तीन मिनट

गंगा प्रसाद विमल (1939 ई.)

⇒ गंगा प्रसाद विमल ’अ-कहानी’ आन्दोलन के पुरस्कारों माने जाते है।

कहानी संग्रह –

1. विध्वंस (1965) 2. शहर में (1966) 3. बीच की दरार (1968) 4. अतीत में कुछ (1972) 5. कोई शुरूआत (1973) 6. खोई हुई थाती (1995)।

रमेश बक्षी (1936-1992 ई.)

1. मेज पर टिकी हुई कुहनियाँ (1963) 2. एक अमूर्त तकलीफ (1968 ई.) 3. तलघर (1969 ई.) 4. सजा (1970) 5. पिता दर पिता (1971) 6. शवासन (1980) 7. रक्तचाप (1983) 8. खाली जेब (1988) 9. टुकङे-टुकङे (1988)।

रवीन्द्र कालिया (1938-2016)

1. नौ साल छोटी पत्नी (1969) 2. काला रजिस्टर (1972) 3. गरीबी हटाओ (1976) 4. गली कुचे (1976) 5. चकैया नीम (1979) 6. बाँके लाल (1982) 7. राग मिलावट मालकौष (1985) 8. सत्ताइस साल की उमर तक (1987) 9. जरा सी रोशनी (2002)

शैलेष मटियानी (1931-2001)

1. दो दुखों का एक सुख (1961) 2. सुहागिनी तथा अन्य कहानियाँ (1966) 3. हारा हुआ (1970) 4. तीसरा सुख (1972) 5. महाभोज (1975) 6. चील (1976) 7. कोहरा (1980) 8. अहिंसा (1987) 9. नाच जमूरे नाच (1989) 10. नदी किनारे का गाँव (1992)

रामदरश मिश्र (1924 ई.)

1. खाली घर (1969 ई.) 2. एक वह (1974) 3. दिनचर्या (1979) 4. सर्पदंश (1982) 5. बसंत का एक दिन (1982) 6. अपने लिए (1992) 7. आज का दिन भी (1996) 8. एक कहानी लगातार (1997) 9. फिर कब आयेंगे (1998) 10. विदूषक (2002 ई.) 11. स्वप्न भंग (2013 ई.)

शेखर जोशी (1932 ई.)

1. कोसी का घटवार (1958) 2. साथ के लोग (1978) 3. हलवाहा (1981) 4. मेरा पहाङ (1989) 5. नौरंगी बीमार है (1990) 6. डाँगरी वाले (1994) 7. बच्चे का सपना (2004) 8. आदमी का डर (2011)

प्रमुख कहानियाँ – दाज्यू (1953 पहली कहानी), कोसी का घटवार (1958), समर्पण (1961), मृत्यु (1961), दौङ (1965), रास्ते (1965), बदबू, साथ के लोग (1967) आदि।

हिमांशु जोशी (1935 ई.)

1. अन्ततः (1965) 2. रथचक्र (1975) 3. मनुष्य चिह्न (1976) 4. जलते हुए डैने (1980) 5. सागर तट के शहर (2005)

काशीनाथ सिंह (1936 ई.-2017 ई.)

1. लोग बिस्तरांे पर (1968) 2. सुबह पर डर (1975) 3. आदमीनामा (1978) 4. नयी तारीख (1979) 5. कल की फटेहाल कहानियाँ (1980) 6. सदी का सबसे बङा आदमी (1986) 7. कविता की नई तारीख (2010) 8. खरोंच (2014)

दूधनाथ सिंह (1936 ई.)

1. सपाट चेहरे वाला आदमी (1967 ई.) 2. सुखांत (1971) 3. पहला कदम (1976) 4. माई का शोक गीत (1992) 5. नमो अंधकारः (1998) 6. धर्मक्षेत्रे करूक्षेत्रे (2002) 7. निष्कासन (2002) 8. तू फू (2011) 9. जलमुर्गियों का शिकार (2015)

प्रमुख कहानियाँ – 1. विजेता, 2. कबन्ध 3. रीछ 4. सुखान्त 5. प्रतिशोध आदि।

ज्ञानरंजन (1937 ई.)

1. फेंस के इधर उधर (1968) 2. यात्रा (1971) 3. क्षण जीवी (1977) 4. सपना नहीं (1977)

जगदीश चतुर्वेदी (1933-2015)

1. जीवन का संघर्ष (1954) 2. निहंग (1973) 3. अंधेरे का आदमी (1980) 4. विवर्त (1981) 5. डेलिया का फूल (1995) 6. आदिम गन्ध (1995)

गिरिराज किशोर (1937 ई.)

1. चार मोती बेआब (1963) 2. नीम के फूल (1964) 3. पेपरवेट (1967) 4. रिश्ता और अन्य कहानियाँ (1969) 5. शहर दर शहर (1976) 6. हम प्यार कर लें (1980) 7. जगत्तारनी और अन्य कहानियाँ (1981) 8. गाना बङे गुलाम अली खाँ (1985) 9. वल्दरोजी (1989) 10. यह देह किसी है (1990) 11. आन्दे्र की प्रेमिका तथा अन्य कहानियाँ (1995) 12. हमारे मालिक सबके मालिक (2003) 13. दुश्मन और दुश्मन (2010)

रमेशचन्द्र शाह (1937 ई.)

1. जंगल में आग (1979) 2. मुहल्ले का रावण (1982) 3. मानपत्र (1992) 4. थियेटर (1998)

गोविन्द मिश्र (1939 ई.)

1. नये पुराने माँ बाप (1973) 2. अन्तःपुर (1976) 3. रगङ खाती आत्माएं (1978) 4. धाँसू (1978) 5. अपाहिज (1980) 6. खुद के खिलाफ (1981) 7. खाक इतिहास (1984) 8. पगला बाबा (1987) 9. आसमान कितना नीला (1992) 10. हवाबाज (1998) 11. मुझे बाहर निकालो (2004) 12. नये सिरे से (2013 ई.)

महीप सिंह (1930-2015 ई.)

1. सुबह के फूल (1959 ई.) 2. उजाले के उल्लू (1964) 3. घिराव (1968) 4. कुछ और कितना (1973 ई.) 5. कितने संबंध (1979) 6. दिल्ली कहाँ है (1985) 7. धूप की उँगलियों के निशान (1992) 8. सहमे हुए (1998) 9. ऐसा ही है (2002)

⇒ महीप सिंह ’सचेतन कहानी’ आन्दोलन के पुरस्कर्ता के रूप में ख्यात है।
⇒ महीप सिंह की कहानियाँ तीन खण्डों में पहला ’सुबह की महक’ दूसरा ’क्षणों का संकट’ तीसरा ’सुबह का सन्नाटा (2000) में प्रकाशित किया गया है।

हृदयेश (1930 ई.)

1. छोटे शहर के लोग (1972) 2. अँधेरे गली का रास्ता (1977) 3. इतिहास (1981) 4. उत्तराधिकारी (1981) 5. अमरकथा (1984) 6. नागरिक (1992) 7. रामलीला तथा अन्य कहानियाँ (1993) 8. सम्मान (1996) 9. सन् उन्नीस सौ बीस (1999) 10. उसी जंगल समय में (2004) 11. कथा एक नामी घराने की (2015)

कामतानाथ (1935-2012)

1. छुट्टियाँ (1977) 2. तीसरी साँस (1977) 3. सब ठीक हो जाएगा (1983) 4. शिकस्त (1992) 5. रिश्तेनाते (1998 ई.)

विवेकीराय (1924-2017 ई.)

1. जीवन परिधि (1952) 2. नयी कोयल (1975) 3. गूंगा जहाज (1977 ई.) 4. बेटे की बिक्री (1981) 5. कालातीत (1982) 6. चित्रकूट के घाट पर (1988) 7. सर्कस (2005)

संजीव (1947 ई.)

1. तीस साल का सफरनामा (1981) 2. भूमिका तथा अन्य कहानियाँ (1987 ई.) 3. प्रेतमुक्ति (1991) 4. दुनिया की सबसे हसीन औरत (1993) 5. प्रेरणास्रोत तथा अन्य कहानियाँ (1995) 6. ब्लैक होल (1997) 7. खोज (1999) 8. गति का पहला सिद्धान्त (2004) 9. गुफा का आदमी (2006) 10. गली के मोङ पे सूना सा कोई दरवाजा (2008) 11. झूठी है तेरी दादी (2011) 12. गैर इरादतन हत्या उर्फ मृत्यु पूर्व का इकबालिया बयान (2015 ई.)

शानी (1933-1995)

1. बबूल की छाँव (1958) 2. डाली नहीं फूलती (1959) 3. छोटे घेरे का विद्रोह (1964) 4. शर्त का क्या हुआ (1975) 5. बिरादरी तथा अन्य कहानियाँ (1978) 6. सङक पार करते हुए (1979)

राकेश वत्स

1. अतिरिक्त तथा अन्य कहानियाँ (1970) 2. अंतिम प्रजापति (1975) 3. अभियुक्त (1979) 4. शुरूआत (1980) 5. एक बुद्ध और (1986)

मिथिलेश्वर (1950 ई.)

1. बाबू जी (1976) 2. बंद रास्तों के बीच (1978) 3. दूसरा महाभारत (1979) 4. मेघना का निर्णय (1980) 5. गाँव के लोग (1981) 6. विग्रह बाबू (1982) 7. तिरिया जनम (1982) 8. हरिहर काका (1983) 9. माटी की महक धरती गाँव की (1987) 10. एक में अनेक (1987) 11. एक थे प्रो. बी लाल (1993) 12. भोर होने से पहले (1994) 13. चल खुसरो घर आपने (2000) 14. जमुनी (2001)

सेवाराम यात्री (1933 ई.)

1. जीनियस की दुम 2. अनासक्त 3. दूसरे चेहरे (1971) 4. अलग-अलग अस्वीकार (1973) 5. काल विदूषक (1976) 6. धरातल (1977) 7. केवल पिता (1978) 8. अकर्मक क्रिया (1981) 9. खंडित संवाद (2009)

बादशाह हुसैन रिजवी (1937 ई.)

1. टूटता हुआ भय (1986) 2. पीङा गनेसिया की (1994) 3. चार मेहराबों वाली ढालान (2006)

धीरेन्द्र आस्थाना (1956 ई.)

1. लोग हाशिये पर (1980 ई.) 2. आदमीखोर (1982) 3. मुहिम (1984) 4. खुल जा सिम सिम 5. विचित्र देश की प्रेम कथा (1988) 6. जो मारे जायेंगे (1900)

बदी उज्जमाँ (1928-1986)

1. अनित्य (1970) 2. पुल टूटते हुए (1973) 3. चैथा ब्राह्मण (1976)

विजय मोहन सिंह (1936-2015)

1. टट्टू सवार (1971) 2. एक बंगला बने न्यारा (1982) 3. शेरपुर पंद्रह मील (1995) 4. गमे हस्ती का हो किससे (2000) 5. चाय के प्याले में गेंद (2012)

अब्दुल बिस्मिल्लाह (1949 ई.)

1. टूटा हुआ पंख (1981) 2. कितने कितने सवाल (1984) 3. रैन बसेरा (1989) 4. अतिथि देवो भवः (1990) 5. रफ रफ मेल (2000) 6. शादी का जोकर (2013 ई.)

नरेन्द्र कोहली (1940)

1. परिणति (1969) 2. कहानी का अभाव (1977) 3. दृष्टि देश में एकाएक (1979) 4. संबंध (1980) 5. शटल (1982) 6. नमक का कैदी (1983) 7. निचले फ्लैट में (1984) 8. संचित भूख (1985 ई.)

मधुकर सिंह (1935-2014 ई.)

1. पूरा सन्नाटा (1971) 2. भाई का जन्म (1975) 3. अगुन कापड पाठशाला (1978) 4. पहला पाठ (1979) 5. भाई (1983) 6. हरिजन सेवक (1984) 7. आषाढ़ का पहला दिन (1988) 8. माइकल जैक्सन की टोपी 9. लहु पुकारे आदमी 10. मनबोध बाबू 11. अनहद बाजे ढोल

बटरोही (1946)

1. दिवास्वप्न (1978) 2. सङक का भूगोल (1985) 3. आगे के पीछे (1989) 4. अनाथ मुहल्ले के ठुल दा (1990) 5. हिडिम्बा के गाँव में (2000 ई.)

उदय प्रकाश (1952 ई.)

1. दरियाई घोङा 2. तिरिछ (1989 ई.) 3. और अंत में प्रार्थना (1994) 4. पालगोमरा का स्कूटर (1997) 5. पीली छतरी वाली लङकी (2001) 6. दत्तात्रेय का दुःख (2002) 7. मोहनदास (2006)

रमेश उपाध्याय (1942 ई.)

1. जमी हुई झील (1969) 2. शेष इतिहास (1973) 3. नदी के साथ (1976) 4. चतुर्दिक (1980) 5. पैदल अंधेरे में (1981) 6. बदलाव से पहले (1981) 7. राष्ट्रीय राजमार्ग (1984) 8. किसी देश के किसी शहर में (1987) 9. कहाँ हो प्यारे लाल (1991) 10. अर्थतन्त्र तथा अन्य कहानियाँ (1996) 11. डाॅक्यू ड्रामा तथा कहानियाँ (2008) 12. एक घर की डायरी (2013 ई.) 13. त्रासदी भाई फुट (2014 ई.)

योगेश कुमार

1. परामर्श (1986 ई.) 2. मिथ्याचक्र (1987 ई.)

स्वयं प्रकाश (1947 ई.)

1. मात्रा और भार (1974) 2. सूरज कब निकलेगा (1980) 3. आसमाँ कैसे कैसे (1982) 4. अगली किताब (1988) 5. आयेंगे अच्छे दिन भी (1991) 6. आदमी जात का आदमी (1994) 7. अगले जन्म (2002) 8. सन्धान (2006) 9. छोटू उस्ताद (2015)

शिवमूर्ति (1950 ई.)

1. कसाईबाङा (1980) 2. भरतनाट्यम 3. सिरी उपमा जोग 4. तिरिया चरित्तर 5. केशर कस्तूरी (1991 ई.)

रामदेव शुक्ल (1938 ई.)

1. उजली हँसी की वापसी (2002) 2. पतिव्रता (2002) 3. माटी बाबा की कहानी (2005) 4. नीलामघर (2006) 5. अपहरण (2014)

रामधारी सिंह ’दिवाकर’ (1954 ई.)

1. नये गाँव में 2. अलग-अलग अपरिचय (1981) 3. बीच से टूटा हुआ 4. नया घर चढ़े (1987) 5. सरहद के पार (1990) 6. धरातल (1997) 7. मखान पोखर (1998) 8. माटी पानी (1999) 9. झूठी कहानी का सच (2010) 10. हङताली मोङ (2013 ई.)

असगर वजाहत (1946 ई.)

1. दिल्ली पहुँचना है 2. स्वीमिंग पुल 3. मैं हिन्दू हूँ (2006 ई.) 4. डर और अन्य कहानियाँ (2006 ई.) 5. डेमोक्रेसिया (2013)

अरूण प्रकाश (1948-2012 ई.)

1. भैया एक्सप्रेस (1992) 2. जल प्रांतर (1994) 3. मझधार किनारे (1996) 4. उस रात का दुःख 5. लाखांे के बोल सहे (1995) 6. विषय राग (2003) 7. स्वप्न धार (2006 ई.)

मंजूर एहतेशाम (1948 ई.)

1. रमजान में एक मौत (1982) 2. तसबीह (1998) 3. तमाशा (2001)

ज्ञान प्रकाश विवेक (1949 ई.)

1. अलग-अलग दिशायें (1983) 2. जोसफ चला गया (1986) 3. शहर गवाह है (1989) 4. पिताजी चुप रहते है (1991) 5. उसकी जमीन (1993) 6. शिकारगाह (2003) 7. सेवा नगर कहाँ है (2007) 8. मुसाफिरखाना (2007) 9. बदली हुई दुनिया (2009) 10. कालखण्ड (2015 ई.)

शैवाल (1949 ई.)

1. समुद्रगाथा 2. मरू यात्रा (1999) 3. सुप्रभा के घर में घोङा (1999) 4. दामुल और अन्य कहानियाँ 5. अरण्यगाथा (2000) 6. यहाँ कोई गुलमोहर नहीं है (2004) 7. कथा नायिकाएँ (2012 ई.)

क्षितिज शर्मा (1950)

1. ताला बन्द है 2. समय कम है 3. गोरख धन्धा (2009) 4. ढाक के तीन पात (2011 ई.)

तेजेन्द्र शर्मा

1. काला सागर (1990) 2. ढ़िबरी टाईट (1994) 3. देह की कीमत (1999) 4. यह क्या हो गया (2003) 5. बेघर आखें (2007) 6. दीवार में रास्ता (2014 ई.) 7. सीधी रेखा की परतें (2014 ई.) 8. सपने मरते नहीं (2015 ई.)

प्रियंवद (1952 ई.)

1. एक अपवित्र पेङ (1995) 2. खरगोश (1999) 3. फाल्गुन की एक उपकथा (2003)

कृष्ण बिहारी (1954 ई.)

1. दो औरतें (2007) 2. पूरी हकीकत पूरा फसाना (2009) 3. इन्तजार (2009) 4. दो औरतें और तीन कहानियाँ (2011) 5. श्वेत स्याम रतनार (2011) 6. उसका चेहरा (2014 ई.)

अनन्त कुमार सिंह (1955 ई.)

1. चैराहे पर (1992) 2. और लाटूर गुम हो गया (1997) 3. राग भैरवी (2002) 4. तुम्हारी तस्वीर नहीं है यह (2003) 5. कठफोङता तथा अन्य कहानियाँ (2007) 6. ब्रेकिंग न्यूज (2003 ई.)

जयनंदन (1956 ई.)

1. सन्नाटा भंग (1993 ई.) 2. विश्वबाजार का ऊँट (1997) 3. एक अकेले गान्ही जी (2001) 4. कस्तूरी पहचानो मृग (2001) 5. सूखते स्त्रोत (2003) 6. घर फूँक तमाशा (2004) 7. गाँव की सिसकियाँ (2012 ई.) 8. भीतरघात (2013 ई.) 9. सेराज बैण्डवाला (2015 ई.)

अखिलेश (1960 ई.)

1. आदमी नहीं टूटता (1983) 2. मुक्ति (1989) 3. शापग्रस्त (1997) 4. अंधेरा (2006 ई.)

भगवानदास मोरवाल (1960 ई.)

1. सिला हुआ आदमी (1986 ई.) 2. सूर्यास्त से पहले (1990) 3. असली माॅडल उर्फ सूबेदार (1994) 4. सीढ़ियाँ 5. माँ और उसका देवता (2008) 6. लक्ष्मण रेखा (2010 ई.)

राघवेन्द्र नारायण सिंह (1960)

1. प्लीज बिहेव योरसेल्फ (2010 ई.) 2. मिट्टी का मकान (2012) 3. एक दार्शनिक की चूक (2015 ई.)

सृंजय (1961 ई.)

1. कामरेड का कोट (1993) 2. नंगा (2001)

कमलाकांत त्रिपाठी

1. जानकी बुआ (1993) 2. अंतराल (2001)

ओमा शर्मा (1963 ई.)

1. भविष्य द्रष्टा (2002 ई.) 2. कारोबार (2008) 3. शुभारम्भ और अन्य कहानियाँ (2015 ई.)

प्रियदर्शन (1968 ई.)

1. उसके हिस्से का जादू (2007) 2. बारिश, धुआँ और दोस्त (2015)

प्रभात रंजन (1970 ई.)

1. जानकी पुल (2008 ई.)

पंकज सुबीर (1975 ई.)

1. ईस्ट इंडिया कंपनी (2010) 2. महुआ घटवारिन और अन्य कहानियाँ (2012 ई.)

मनोज कुमार पाण्डेय (1977 ई.)

1. शहतूत 2. पानी (2014)

तरूण भटनागर

1. गुलमेंहदी की झाङियाँ (2008 ई.) 2. भूगोल के दरवाजे पर (2014) 3. वादी मुल्तान और टच एण्ड गो (2016 ई.)

महिला कहानीकार

सुभद्राकुमारी चैहान

1. बिखरे मोती (1932) 2. उन्मादिनी (1934 ई.)

सुमित्रा कुमारी सिन्हा

1. अचल सुहाग (1939 ई.) 2. वर्षगांठ (1942 ई.)

शिवरानी देवी

1. कौमुदी (1937 ई.)

चन्द्रकिरण सौनरेक्सा (1919-2009 ई.)

1. आदमखोर (1945 ई.)

शशिप्रभा शास्त्री (1923-2000 ई.)

1. धुली हुई शाम (1969 ई.) 2. अनुत्तरित (1975) 3. दो कहानियों के बीच (1978) 4. जोङ बाकी (1981) 5. एक टुकङा शांतिरथ (1991 ई.) 6. पतझङ (1994 ई.) 7. उस दिन भी (1996 ई.)

शिवानी (1923-2003 ई.)

1. लाल हवेली (1965 ई.) 2. पुष्पहार (1969) 3. अपराधिनी (1972 ई.) 4. रथ्या (1976) 5. स्वयंसिद्धा (1977) 6. रतिविलाप (1977) 7. पुष्पहार (1978)

कृष्णा सोबती (1925 ई.)

1. बादलों के घेरे (1980) 2. सिक्का बदला गया (प्रमुख कहानी)

दीप्ती खण्डेलवाल (1930 ई.)

1. कङवे सच (1975) 2. धूप के अहसास (1976) 3. वह तीसरा (1976) 4. सलीब पर (1977) 5. दो पल की छाँव (1978 ई.) 6. नारी मन (1979 ई.) 7. औरत और बातें (1980 ई.)

मन्नू भण्डारी (1931 ई.)

1. मैं हार गई (1957 ई.) 2. यही सच है (1966 ई.) 3. एक प्लेट सैलाब (1968) 4. निगाहों की एक तस्वीर (1968) 5. त्रिशंकु (1978 ई.)

प्रमुख कहानी – यही सच है, रानी माँ का चबूतरा

उषा प्रियंवदा (1931 ई.)

1. जिन्दगी और गुलाब के फूल (1961) 2. फिर बसन्त आया (1961) 3. एक कोई दूसरा (1966) 4. कितना बङा झूठ (1972)

मालती जोशी (1934 ई.)

1. मध्यांतर (1977) 2. पटाक्षेप (1978) 3. पराजय (1979) 4. एक घर सपनों का (1985) 5. विश्वास गाथा 6. शापित शैशव तथा अन्य कहानियाँ (1996) 7. पिया पीर न जानी (1999) 8. औरत एक रात है (2001) 9. रहिमन धागा प्रेम का 10. परख 11. वो तेरा घर ये मेरा घर 12. मिलियन डाॅलर नोट तथा अन्य कहानियाँ 13. आॅनर किलिंग 14. स्नेह बंध तथा अन्य कहानियाँ (2015)

राजी सेठ (1935 ई.)

1. अन्धे मोङ से आगे (1979) 2. तीसरी हथेली (1981) 3. यात्रामुक्त (1987) 4. दूसरे देश काल में (1992) 5. यह कहानी नहीं (1998) 6. गमे हयात ने मारा (2006)

कृष्णा अग्निहोत्री (1935)

1. टीन के घेरे (1970) 2. गलियारे (1974) 3. याही बनारसी रंग बा (1983) 4. जिन्दा आदमी (1986) 5. जै सियाराम (1993) 6. सर्पदंश (1997) 7. अपने-अपने कुरूक्षेत्र (2001) 8. यह क्या जगह है दोस्तों (2007) 9. जीना मरना (2010) 10. मान भी जा साँझी (2013) 11. कण्ठे जाणा (2015 ई.)

मंजुल भगत (1936-1998 ई.)

1. गुलमोहर के गुच्छे (1974) 2. टूटा हुआ इन्द्रधनुष (1976) 3. क्या छूट गया (1976) 4. आत्महत्या के पहले (1979) 5. कितना छोटा सफर (1979) 6. बावन पत्ते एक जोकर (1982) 7. सफेद कौआ (1986) 8. दूत (1992) 9. बूंद (1998 ई.) 10. अंतिम बयान (2001)

मृदुला गर्ग (1938 ई.)

1. कितनी कैदें (1975) 2. टुकङा-टुकङा आदमी (1977) 3. डेफोडिल जल रहे हैं (1978) 4. ग्लेशियर से (1980) 5. उर्फ सैम (1986) 6. समागम (1996) 7. मेरे देश की मिट्टी अहा (2001)

प्रमुख कहानियाँ – 1. अगली सुबह 2. विनाशदूत 3. बेनकाब

चंद्रकांता (1938 ई.)

1. सलाखों के पीछे (1975) 2. गलत लोगों के बीच (1984) 3. पोशनूल की वापसी (1988) 4. दहलीज पर न्याय (1989 ई.) 5. ओ सोन किसरी (1991) 6. कोठे पर कागा (1993) 7. सूरज उगने तक (1994) 8. काली बर्फ (1996) 9. बदलते हालात में (2002) 10. अब्बू ने कहा था (2005) 11. अलकट राज देखा (2013 ई.)

ममता कालिया (1940)

1. छुटकारा (1969) 2. सीट नं. 6 (1978) 3. एक अदद औरत (1979) 4. प्रतिदिन (1983) 5. उसका यौवन (1985) 6. जाँच अभी जारी है (1990) 7. बोलने वाली (2000) 8. मुखौटा (2002) 9. निर्मोही (2006) 10. खुदकिस्मत (2010) 11. थोङा सा प्रगतिशील (2014 ई.)

चित्रा मुद्गल (1944 ई.)

1. जरा ठहरा हुआ (1980) 2. लाक्षागृह (1982) 3. अपनी वापसी (1983) 4. इस हमाम में एवं ग्यारह लंबी कहानियाँ (1987) 5. जगदम्बा बाबू गाँव रहे है (1992) 6. जिनावर (1996) 7. भूख (2001) 8. लपटें (2002) 9. पंेटिंग अकेली है (2014 ई.)

सुधा अरोङा (1946 ई.)

1. बगैर तरोशे हुए (1968 ई.) 2. युद्ध विराम (1977) 3. महानगर की मैथिली (1987) 4. काला शुक्रवार (2004) 5. एक औरत: तीन बटा चार 6. अन्नपूर्णा मण्डल की आखिरी चिट्ठी 7. बुत जब बोलते है (2015)

सूर्यबाला (1944 ई.)

1. एक इन्द्र धनुष जुबेदा के नाम (1977 ई.) 2. दिशाहीन मैं 3. थाली भर चाँद (1988 ई.) 4. मुडेर पर (1990) 5. साँझबाती (1995) 6. कात्यायनी संवाद (1996 ई.) 7. मानुष गंध (2005) 8. गौरा गुनवती (2010) 9. गैरहाजिरी के बावजूद (2014)

मेहरून्निसा परवेज (1944 ई.)

1. आदम और हव्वा (1972) 2. टहनियों पर धूप (1977) 3. फाल्गुनी (1978) 4. गलत पुरुष (1978) 5. अंतिम चढ़ाई (1982 ई.) 6. अम्मा (1977) 7. समर (1999 ई.) 8. लाल गुलाब (2006 ई.)

मृणाल पाण्डेय (1946 ई.)

1. दरम्यान (1977) 2. शब्दवेदी (1980) 3. एक नीच ट्रैजेडी (1981 ई.) 4. एक स्त्री का विदागीत (1983 ई.)

मणिका मोहिनी

1. खत्म होने के बाद (1972) 2. अभी तलाश जारी है (1976) 3. स्वप्नदंश (1978) 4. पारू ने कहा था (1979) 5. अपना-अपना सच (1982 ई.) 6. ढाई आखर प्रेम का (1983 ई.) 7. अन्वेषी (1986 ई.)

इन्दुबाली

1. टूटती जुङती (1981) 2. बिना छत का मकान (1983) 3. अँधेरे की लहर (1985) 4. बिखरती आकृतियाँ (1985 ई.) 5. दूसरी औरत होने का सुख कौन दिला दिया जाने (1986) 6. मेरी तीन मौंते (1991) 7. धरातल (1992) 8. चुभन (1993) 9. मैं खरगोश होना चाहती हूँ (1995 ई.) 10. पाँचवां युग (1997) 11. नहीं माँ नहीं (2008 ई.) 12. शिव नेत्र (2008 ई.)

कुसुम चतुर्वेदी

1. तीसरा यात्री (1997 ई.) 2. आंगन में उगी पौध (2000) 3. मेला उठने तक (2012 ई.)

ज्योत्सना मिलन (1941-2014 ई.)

1. चीख के आर-पार (1979) 2. खण्डहर तथा अन्य कहानियाँ (1982) 3. अँधेरे में इन्तजार (1966) 4. उम्मीद की दूसरी सूरत (2003 ई.)

मैत्रेयी पुष्पा (1944 ई.)

1. चिन्हार (1991 ई.) 2. ललमनियाँ (1996 ई.) 3. गोमा हँसती है (1998 ई.)

नमिता सिंह (1944 ई.)

1. खुले आकाश के नीचे (1978 ई.) 2. राजा का चैक (1982) 3. नील गाय की आँखें (1990) 4. जंगल गाथा (1992 ई.) 5. निकम्पा लङका (1997) 6. मिशन जंगल और गिनीपत (2007 ई.)

कुसुम खेमानी (1944 ई.)

1. सच कहती कहानियाँ (2013 ई.) 2. अनुगूँज जिन्दगी की (2015 ई.) 3. अचम्भा प्रेम (2015 ई.)

कमल कुमार (1946 ई.)

1. पहचान (1984 ई.) 2. क्रमशः (1996 ई.) 3. फिर वहीं से शुरू (1998) 4. वैलेन्टाइन डे (2002 ई.) 5. घर बेघर (2006) 6. मदर मेरी और अन्य कहानियाँ (2014 ई.)

लता शर्मा (1947 ई.)

1. आखिरी नाम अल्लाह का (2003 ई.) 2. जिन दिन देखे वे कुसुम (2006) 3. देवता बोलते नहीं (2010 ई.) 4. नौ बार (2014 ई.)

क्षमा शर्मा (1955 ई.)

1. नेम प्लेट (2006) 2. रास्ता छोङो डार्लिंग (2010) 3. लङकी जो देखी पलट कर (2011 ई.) 4. इक्कीसवीं सदी का लङका

गीतांजलि श्री (1957 ई.)

1. अनुगूँज (1995 ई.) 2. वैराग्य (1999 ई.) 3. यहाँ हाथी रहते थे (2012 ई.)

मधु कांकरिया (1957 ई.)

1. अन्तहीन मरूस्थल (1999) 2. बीतते हुए (2004 ई.) 3. और अंत में ईशु (2006 ई.) 4. चिङिया ऐसे मरती है (2012) 5. भरी दोपहरी के अँधेरे (2013 ई.) 6. युद्ध और बुद्ध (2014 ई.)

मीराकांत (1958 ई.)

1. हाइफन 2. कागजी बुर्ज (2007 ई.) 3. गली दुलहिन वाली (2009)

लवलीन (1959-2009 ई.)

1. सलिल सागर कमीशन आया बनाम समाज सेवा जारी है (1977 ई.) 2. चक्रवात (1999 ई.)

नासिरा शर्मा (1948 ई.)

1. शामी कागज (1980 ई.) 2. पत्थर गली (1986 ई.) 3. संगसार (1993 ई.) 4. इब्ने मरियम (1994) 5. सबीना के चालीस चोर (1907) 6. खुदा की वापसी (1998) 7. इन्सानी नस्ल (2001) 8. दूसरा ताजमहल (2002 ई.)

दोस्तो हमारे द्वारा की गयी पोस्ट आपको केसे लगी ,आप इस पोस्ट के बारे में नीचे दिये गए कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें 

ये भी अच्छे से जानें ⇓⇓

समास क्या होता है ?

परीक्षा में आने वाले मुहावरे 

सर्वनाम व उसके भेद 

महत्वपूर्ण विलोम शब्द देखें 

विराम चिन्ह क्या है ?

परीक्षा में आने वाले ही शब्द युग्म ही पढ़ें 

साहित्य के शानदार वीडियो यहाँ देखें 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *