नंददास || कृष्णभक्त कवि || हिंदी साहित्य

आज की पोस्ट में हम कृष्ण भक्त कवि नंददास (Nanddas) जी के जीवन परिचय के बारे में महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ प्राप्त करेंगे

नंददास

नन्ददास जीवन परिचय (Nanddas biography)

  • जन्मकाल – 1533 ई. (1590 वि.) मृत्युकाल – 1583 ई. (1640 वि.)
  • जन्मस्थान – गाँव रामपुर, सोरों या सूकर क्षेत्र (उ.प्र., सनाढ्य ब्राह्मण)

प्रमुख रचनाएँ –

  • अनेकार्थ मंजरी
  • मान मंजरी

(ये दोनों रचनाएँ पर्याय कोश ग्रंथ हैं। ’मानमंजरी’ ग्रंथ नंददास के भाषा विषयक प्रौढ़ ज्ञान और पांडित्य का द्योतक माना जाता है।)

विरह मंजरी (यह बारहमासा शैली में रचित इनका भावात्मक काव्य माना जाता है।)

रामनरेश त्रिपाठी जीवन परिचय  देखें 

रूप मंजरी -यह इनका लघु आख्यानकाव्य माना जाता है। इनकी एक प्रेयसी का नाम भी ’रूपमंजरी’ माना जाता है।(imp)

⇒ रसमंजरी

⇔ भंवरगीत

यह नंददास के परिपक्व दर्शन ज्ञान, विवेक बुद्धि, तार्किक शैली और कृष्ण भक्ति का परिचायक काव्य
है। इसके पूर्वार्द्ध भाग में गोपी-उद्धव संवाद तथा उत्तरार्द्ध भाग में कृष्ण-प्रेम में गोपियों की विरह दशा का वर्णन है।
इसके लेखन का मुख्य उद्देश्य निर्गुण-निराकार ब्रह्म की उपासना का खंडन करके सगुण साकार कृष्ण की भक्ति
की स्थापना करना है।
रास पंचाध्यायी

यह इनकी सर्वश्रेष्ठ रचना मानी जाती है। इसमें वियुक्त आत्मा (गोपी) रासलीला के माध्यम से रस-रूप परमात्मा (कृष्ण) से मिलाने के लिए प्रयत्नशील हैं। यह ’रोला’ छंद में लिखित रचना है। इस रचना में उपयुक्त शब्द चयन एवं उनके सुष्ठु प्रयोग के कारण इनको ’जङिया-कवि’ की उपाधि प्रदान की जाती है।

सिद्धान्त पंचाध्यायी -यह कृष्ण की रासलीला से संबंधित रचना है। इसमें कृष्ण, वृदांवन, वेणु, गोपी, रास आदि शब्दों की आध्यात्मिक व्याख्या प्रस्तुत की गयी हैं।

डॉ. नगेन्द्र  जीवन परिचय देखें 

  • सुदामा चरित -इसका कथानक ’श्रीमद्भागवत’ से गृहीत किया गया है। काव्यदृष्टि से यह साधारण रचना है।
  • नन्ददास पदावलीइसमें नंददास द्वारा रचित पदों को बारह प्रकरणों में संकलित किया गया है। इसमें इनके काव्यसौष्ठव का उत्कर्ष देखा जा सकता है।
  • रुक्मिणी मंगल
  • प्रेम-बारहखङी
  • श्याम सगाई
  • दशमस्कन्ध भागवंत
  • गोवर्धनलीला
  • अनेकार्थमाला (पर्यायकोश)

नोट:- आचार्य शुक्ल ने इनके द्वारा रचित निम्न दो गद्य रचनाओं का भी उल्लेख किया हैं:-

  • हितोपदेश
  • नासिकेत पुराण भाषा

विशेष तथ्य –

  • ये अष्टछाप के कवियों में सबसे कनिष्ठ कवि माने जाते हैं।
  • जनश्रुतियों के अनुसार ये गोस्वामी तुलसीदास के चचेरे भाई माने जाते है। इनके पिता ’जीवनराम’ एवं तुलसीदास के पिता ’आत्माराम’ सगे भाई थे।
  • इन्होंने बचपन में तुलसीदास के साथ ही श्री नृसिंह पंडित से संस्कृत भाषा का ज्ञान प्राप्त किया था।
  • नृसिंह पंडित रामानंदीय सम्प्रदाय के रामोपासक थे, अतएव प्रारम्भ में नंददास जी ने भी रामभक्ति को ही स्वीकार किया था।
  • ये किसी रूपवती खत्रानी स्त्री पर आसक्त होकर उसके पीछे-पीछे गोकुल चले गये थे, जहाँ गोस्वामी विट्ठलनाथ जी के सदुपदेश से इनका मोह भंग हुआ और ये कृष्ण के अनन्य भक्त हो गये।
  • इतिहासकारों के अनुसार नंददास के भंवरगीत में वर्णित गोपियाँ से भी अधिक मुखर एवं वाचाल मानी जाती है।

अमृतलाल नागर जीवन परिचय देखें 

इनके द्वारा रचित निम्न पद द्रष्टव्य हैं –

’’जो उनके गुन होय, वेद क्यों नेति बखानै।
निरगुन सगुन आत्मा रुचि ऊपर सुख सानै।।

वेद पुराननि खोजि कै पायो कतहुँ न एक।
गुन ही के गुन होहि तुम, कहो अकासहि टेक।।’’ (भंवरगीत से)

’ताही छिन उडुराज उदित रस-रास-सहायक।
कुंकुम-मंडित-बदन प्रिया जनु नागरि नायक।।
कोमल किरन अरुन मानों वन व्यापि रही यों।
मनसिज खेल्यौ फाग घुमङि धुरि रह्यो गुलाल ज्यों।।’’

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *