हिन्दी साहित्य की इतिहास लेखन पद्धतियाँ 

( अ ) वर्णानुक्रम
( ब ) कालानुक्रम
( स ) वैज्ञानिक पद्धति
( द ) विधेयवादी पद्धति

1. वर्णानुक्रम पद्धति ” : –

🍀🌟 सर्वाधिक दोषपूर्ण व प्राचीन पद्धति है ,

🍀 इस पद्धति में कवियों व लेखको का परिचय उनके नाम के वर्णानुक्रमानुसार किया जाता है !

🍀🌟 गार्सा द तासी व शिवसिंह सेंगर ने अपने ग्रंथो में इसी पद्धति का प्रयोग किया है ,

🍀🌟 यह साहित्य इतिहास लेखन की सर्वाधिक दोषपूर्ण पद्धति है

🍀🌟 इस प्रणाली पर आधारित ग्रंथो को साहित्येतिहास की अपेक्षा ” साहित्यकार कोश कहना उपर्युक्त है !

🍀🌟 कोश ग्रंथो के लिए यह प्रणाली उपर्युक्त है !

2. कालानुक्रम पद्धति ” : –

#जॉर्ज ग्रियर्सन ने द मॉडर्न वर्नाक्यूलर लिटरेचर ऑफ हिंदुस्तान “इतिहास ग्रंथ इसी पद्धति को आधार बनाकर लिखा है ।

🍀🌟 इस पद्धति पर या इसके आधार पर लिखे गये ग्रंथो को साहित्येतिहास कहने की अपेक्षा कविवृत्त संग्रह कहना उपर्युक्त होगा !

3 . वैज्ञानिक पद्धति ” : –

डॉ गणपति चंद्रगुप्त ने #हिंदी साहित्य का वैज्ञानिक इतिहास इसी पद्धति को आधार बनाकर लिखा है ।

🍀🌟 इस पद्धति में तथ्यों का संग्रहण कर विश्लेषण  किया जाता है , व निष्कर्ष प्रस्तुत किये जाते है 1

🍀🌟 साहित्येतिहास लेखन की अपेक्षा कोड लेखन के लिए उपर्युक्त !

4 . विधेयवादी पद्धति ” : –

🍀🌟 साहित्य इतिहास लेखन की सर्वाधिक उपर्युक्त विधि !

🍀🌟 इस विधि के जन्मदाता ” तेन ” Taine माने जाते है !

🍀🌟 इस पद्धति में साहित्येतिहास प्रवृतियों का अध्ययन युगीन परिस्थितियों के संदर्भ में किया जाता है !

🍀🌟 आचार्य शुक्ल ने अपने साहित्येतिहास लेखन में इसी पद्धति का उपयोग किया है

🍀🌟 इसी कारण उनके इतिहास ग्रन्थ को सच्चे अर्थो में हिदी साहित्य का प्रथम इतिहास ग्रन्थ कहा जाता है !

🍀🌟🍀🌟 आचार्य शुक्ल के अनुसार प्रत्येक देश का साहित्य वहा की जनता की संचित चितवृति का बिम्ब होता है !

🍀🌟 तब यह निश्चित है , की जनता की चितवृति के परिवर्तन के साथ – साथ साहित्य का परिवर्तन साहित्य इतिहास कहलाता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here